Home International Culture इस Valentine Day जानिए की क्या आपका प्यार है शादी के लायक

इस Valentine Day जानिए की क्या आपका प्यार है शादी के लायक

79
0
शादी

द एंगल।

नई दिल्ली।

आज फिर जैसे ही चाहत की नींद खुली उसके कानों में फुसफुसाती सी आवाज पड़ी। आवाज भी जानी पहचानी और बातें भी..चाहत की शादी कब होगी। लोगों को क्या जवाब दें, अब तो लोग पूछने लगे हैं। ऐसा पहली बार नहीं था जब इस तरह की बातें चाहत ने अपने घर में सुनी थी। इसलिए इन बातों को नजर अंदाज करके वो कंबल से चेहरा ढक कर फिर से सो गई। चाहत सो तो गई लेकिन ये बातें उसके कानों में गूंजने लगी। वो सोचने लगी आखिर ये शादी इतनी जरूरी क्यों है। क्यों इसके बिना लड़का हो या लड़की उसे अधूरा समझा जाता है।

अक्सर इसी तरह के ख्याल हमारी नई पीढ़ी के जहन में आते है। जब वो अपने करियर पर ध्यान लगाए होते है और अपनी जिंदगी अपने ढंग से जीना चाहते है। लेकिन पारिवारिक और सामाजिक दवाब के कारण उन्हें विवाह जैसे खुबसूरत रिश्ते को भी जबरदस्ती के बंधन के रूप में स्वीकारना पड़ता है। लेकिन ये जो पड़ाव होता है जब आपकी सूई विवाह के लिए हां और ना के बीच अटकी होती है। ऐसे में दिमाग अलग ही रास्तों पर जाता है और दिल की तो बात ही छोड़ दीजिए वो पल-पल में बदलता रहता है। अब ऐसी असमंजस्य की स्थिति में क्या किया जाए। इसी कशमश में आपकी मदद करेंगे हमारे ये कुछ सुझाव 

खुद को चुनिए

ऐसा करने पर हो सकता है आपको स्वार्थी, जिद्दी जैसे शब्दों से नवाजा जाए। लेकिन इन शब्दों को खुद पर हावी मत होने दीजिए। क्योंकि जब पानी के बहाव के विपरीत दिशा में तैरना पड़ता है तभी ज्यादा मशक्कत करनी होती है। अगर आप पर शादी को लेकर भावनात्मक या सामाजिक कोई भी दबाव बनाया जाए।

शादी

या आपसे कहा जाए की “उम्र हो गई है”  “अब नहीं तो कब करोगे” “परिवार को शर्मिंदगी हो रही है”  “घर के बुजुर्गों का सपना है तुम्हारी शादी”  तो ऐसे में खुद पर इन बातों को हावी ना होने दीजिए। क्योंकी विवाह आपको करना है। इसका प्रभाव आप पर पड़ेगा ना की समाज, पड़ोसी, रिश्तेदारों पर। इसलिए आप खुद से पुछिए क्या आप तैयार है। अगर हां तो ही आगे बढ़िए। नहीं तो खुद को चुनिए।

 

हां या ना का कारण

अगर आप शादी के लिए हां कर रहे है तो क्यों कर रहे है ये भी जरूरी है। और अगर आपकी ना है तो वो क्यों है ये भी सोचिए। कई बार हम नए फैसले लेने से डरते है, अगर ऐसा है तो पहले खुद को तैयार कीजिए।

शादी

वहीं अगर आप हां कर चुके है लेेकिन आपकी हां का कारण अपनी नई खुबसूरत शुरूआत करना नहीं बल्कि परिवार का सम्मान बरकरार रखना है। तो थोड़ा और वक्त लीजिए।

भूत में ना अटकिए

अगर आपके कन्फ्यूजन का कारण आपका पास्ट है, तो उससे बाहर निकलिए। यहां हमारा मतलब आपके पास्ट लव लाइफ से ही नहीं है। बल्कि कई बार जिंदगी के कुछ ऐसी घटनाएं होती है जो हमारे दिलों दिमाग में बस जाती हैं। इन घटनाओं का ऐसा असर होता है कि आप पूरी जिंदगी इनमें जकड़े रह जाते हो।

शादी

जैेसे राहुल को शादी से सिर्फ इसलिए डर लगता था क्योंकी बचपन में उसने अपने पापा- मम्मी को अक्सर लड़ते देखा था। इसलिए वो इस रिश्ते को लड़ाई, तनाव से ही जोड़कर देखता था। अगर ऐसी कोई घटना आपको आज भी परेशान करती है तो उससे बाहर निकलिए। खुद को एक मौका दिजीए।

शादी से आजादी खोने का डर

आजकल चाहे लड़का हो या लड़की सबकी अपनी जिंदगी, अपनी सोच, अपने निर्णय है। ऐसे में अक्सर लड़के हो या लड़की उनको लगता है कि अगर वो शादी करेंगे तो उनकी आजादी खत्म हो जाएगी। खासकर लड़कियों को ये डर होता है क्योंकी उन्हें अपने परिवार को छो़ड़कर एक अनजाने परिवार में जाना होता है।

शादी

एक कारण ये भी है कि आज जमाना चाहे कितना ही आधूनिक हो गया है लेकिन शादी और बहू, दामाद के मामले में कहीं ना कहीं सोच पुरानी ही ज्यादा हावी होती है। इसलिए ये डर तो लाजमी है। ऐसे में आपको जो चिज सबसे ज्यादा काम आती है वो है एडजस्टमेंट। अब एडजेस्टमेंट कैसे करें वो हम आपको अपने अगले आर्टीकल में बताएंगे। अगर आप एडजस्ट करने के लिए तैयार हैं तो आप हां कहिए वरना ना ही बेहतर है।

शादी : फिल्मों से हकीकत तक

फिल्मों और सीरियल्स में शादी से जुडी काल्पनिक कहानियों को देख देखकर अक्सर हम उन्हें ही सही समझने लग जाते है। इसलिए जरूरी है कि यदि आप शादी के लिए हां या ना के झोल में अटके हैं तो उसे कृप्या टीवी से जोडकर ना देंखे।

क्यों टीवी के नायक, नायिका की जिन्दगी और असल जिंदगी में बहुत अंतर होता है। आजकल ना तो कसौटी जिंदगी की के प्रेरणा और अनुराग जैसे कपल होते है और ना ही टीवी की जैसी सासें। इसलिए जो भी फैसला ले अपनी जिंदगी की कसौटी पर उतरकर लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here