Home Business देश की पहली निजी ट्रैन ने एक महीने में कमाए इतने करोड़…

देश की पहली निजी ट्रैन ने एक महीने में कमाए इतने करोड़…

89
0
निजी

द एंगल।

नई दिल्ली।

भारतीय रेल की पहली निजी ट्रेन तेजस एक्सप्रेस को अपने परिचालन के पहले महीने अक्टूबर में 70 लाख रुपये का फायदा हुआ। सूत्रों के अनुसार इस दौरान इस गाड़ी को टिकट की बिक्री से करीब 3.70 करोड़ रुपये की आय हुई। यह ट्रेन लखनऊ-दिल्ली मार्ग पर चलाई जा रही है। इसका परिचालन ऑनलाइन टिकट, भोजन और पर्यटन संबंधी सुविधाएं देने वाली रेलवे की कंपनी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन यानी आईआरसीटीसी कर रही है।

50 स्टेशनों को विश्वस्तरीय बनाने का लक्ष्य-

सरकार ने रेलवे में सुधार के लिए 50 स्टेशनों को विश्वस्तरीय बनाने और रेलवे नेटवर्क पर 150 यात्री रेलगाड़ियों का परिचालन ठेका निजी इकाइयों को देने का लक्ष्य रखा है। तेजस एक्सप्रेस इसी योजना का हिस्सा है। यह गाड़ी अक्टूबर में 5 से 28 अक्टूबर तक 21 दिन चलाई गई। इसकी सेवा सप्ताह में छह दिन है।

निजी ट्रैन में रोजाना 3 करोड़ का खर्च-

इस दौरान यह गाड़ी औसतन 80-85 प्रतिशत भरी सीट के साथ चली। अक्टूबर में इसके चलाने का IRCTC का खर्च करीब तीन करोड़ रुपये रहा । रेलवे की इस अनुषंगी कंपनी को इस अत्याधुनिक यात्री किराए से प्रति दिन औसतन 17।50 लाख रुपये की आमदनी हुई जबकि 14 लाख रुपये खर्च करना पड़ा। तेजस एक्सप्रेस में भोजन, 25 लाख रुपये तक का मुफ्त यात्री बीमा और विलंब पर क्षतिपूर्ति जैसी सुविधाएं हैं।

3 घंटे लेट होने से लाखों का हुआ नुक्सान-

बता दें कि तेजस एक्सप्रेस 19 अक्टूबर को पहली बार 3 घंटे से ज्यादा लेट हो गई थी। दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस के लेट होने से IRCTC को लाखों रुपये का चूना लग गया था। तेजस ट्रेन के लेट होने पर IRCTC यात्रियों को 1.62 लाख रुपये का मुआवजा देना पड़ा। VIP सुविधाओं से लैस इस ट्रेन की शुरुआत के दौरान ही आईआरसीटीसी ने कहा था कि अगर ये ट्रेन एक घंटे से ज्यादा लेट हुई तो कंपनी की ओर से हर्जाना दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here