Home International Health अब हृदय प्रत्यारोपण के लिए नहीं जाना होगा बाहर, प्रदेश में ही...

अब हृदय प्रत्यारोपण के लिए नहीं जाना होगा बाहर, प्रदेश में ही मिलेगी सभी सुविधा

194
0
heart

दा एंगल।

जयपुर।

प्रदेश भर में महात्मा गांधी की 150 वी जयंती पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है। इसी क्रम में चिकित्सा विभाग में कार्यक्रम हुआ। सवाई मानसिंह चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल में हृदय प्रत्यारोपण ऑपरेशन थियेटर एवं गहन चिकित्सा ईकाई, डिजिटल पुस्तकालय तथा राज्य अंग एवं उत्तक प्रत्यारोपण संगठन (सोटो) का राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उद्घटान किया। इस दौरान चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा, नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ सुभाष गर्ग भी मौजूद रहे।

हृदय प्रत्यारोपण ऑपरेशन थियेटर एवं गहन चिकित्सा ईकाई:-

सवाई मानसिंह चिकित्सालय में राज्य सरकार की बजट घोषणा के तहत प्रदेश में सर्वप्रथम हृदय प्रत्यारोपण कार्यक्रम प्रारम्भ करने हेतु विश्वस्तरीय सुविधाओं से सुसज्जित ऑपरेशन थियेटर, 4 बैडेड हृदय प्रत्योरपण गहन चिकित्सा ईकाई एवं हृदय फैलियर मरीजों हेतु 10 बैडेड गहन चिकित्सा ईकाई विकसित की गई है।

cm

जिसमें विशेषतः बायोम मेंट्रिक प्रवेश, 3-डी डोमेन लाईट, हाइ एण्ड एनेस्थेसिया वर्क स्टेशन, सैल सर्वर, टीईई सहित 3-डी ईको, हाई एण्ड वेन्टीलेटर एवं मोनीटर इत्यादि आधुनिकतम उपकरण उपलब्ध है। इसमें विशेषतः एक्सट्रा का र्पोरल मैम्ब्रेन ऑक्सीजनरेटर (म्ब्डव्) मशीन स्थापित की जा रही है, यह मशीन उन मरीजों के लिए प्रयोग में लाई जाती है। जिनका हृदय एवं फेफडे दोनो कमजोर होते एवं इस मशीन की सहायता से इन दोनो अंगो को पृथक – पृथक उपचारित किया जा सकेगा।

डिजिटल पुस्तकालयः-

इस पुस्तकालय ने एक वेबसाईट व वेब पोर्टल बनाया गया हैं जिसमें बुक्स, जर्नल,
रिसर्च एवं डेटाबेस उपलब्ध होगा। इस वेबसाईट में वीडियो लाईब्रेरी भी बनाई गई है तथा
इंटरनेट के माध्यम से सभी डाटाज को एक ही जगह से एक्सेस किया जा सकता है
जिससे स्टूडेंट्स रिर्सचर और फैकल्टी को कार्यस्थल, घर व अन्य जगहों से कार्यस्थल
से ही डिजीटल पुस्तकालय के माध्यम से पढाई की सुविधा का उपयोग कर सकेगें। इस
वेब पोर्टल का मुख्य आर्कषण डॉक्यूमेंट डिलिवरी सर्विस है। इस तरह की सुविधा देने
वाला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य क्षेत्र में पहला राजकीय चिकित्सा महाविघालय पुस्तकालय
होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here