Home National फिर जयपुर आए अजय माकन, इस बार कार्यकर्ताओं को मिल सकता है...

फिर जयपुर आए अजय माकन, इस बार कार्यकर्ताओं को मिल सकता है मेहनत का ‘फल’

162
0
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी की मंहगाई को लेकर होने वाली महारैली की बैठक में मौजूद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित अन्य नेता

The Angle

जयपुर।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन आज एक बार फिर जयपुर पहुंचे। एयरपोर्ट पर मीडिया से बातचीत में अजय माकन ने अपने जयपुर दौरे का उद्देश्य बताते हुए कहा कि 12 दिसम्बर को दिल्ली में महंगाई के खिलाफ रैली होगी। रैली में राजस्थान से बड़ी संख्या में लोग पहुंचेंगे। संगठन से जुड़े लोग और आमजन विरोध रैली में पहुंचेंगे। माकन ने बताया कि वे इस रैली की तैयारियों को लेकर प्रदेश कांग्रेस के सभी नेताओं की बैठक लेने जयपुर पहुंचे हैं।

अजय माकन बोले- महंगाई के खिलाफ कांग्रेस करेगी महारैली

बता दें महंगाई के खिलाफ 12 दिसंबर को कांग्रेस की दिल्ली के रामलीला मैदान में महारैली आयोजित होगी। इसी को लेकर प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में बैठक हो रही है। इस बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अजय माकन, पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा मौजूद रहे।

अजय माकन सहित तमाम नेता पीसीसी में कर रहे थे मंथन

अन्य नेताओं की बात की जाए तो बैठक में मंत्री डॉ. महेश जोशी, सालेह मोहम्मद, हेमाराम चौधरी, डॉ.सुभाष गर्ग, डॉ.बीडी कल्ला, शांति धारीवाल, भजनलाल जाटव, परसादी मीणा, गोविंदराम मेघवाल, मुरारीलाल मीणा, ममता भूपेश, वरिष्ठ विधायक और मुख्यमंत्री के सलाहकार डॉ. जितेंद्र सिंह, विधायक इंद्राज गुर्जर, वेदप्रकाश सोलंकी, कृष्णा पूनिया, रफीक खान, संगठन के नेताओं में धर्मेंद्र राठौड़, वैभव गहलोत, पुखराज पाराशर, रुक्मणी कुमारी, ज्योति खंडेलवाल, खानू खां बुधवाली समेत तमाम कांग्रेस पदाधिकारी मौजूद हैं। महंगाई हटाओ महारैली की तैयारियों को लेकर बैठक में चर्चा की गई।

प्रदेश में जल्द हो सकता है जिलाध्यक्षों का ऐलान

वहीं पिछली बार जब माकन दौरे पर आए थे तो लंबे समय बाद गहलोत सरकार में कैबिनेट पुनर्गठन को अमलीजामा पहनाया गया था। इसके बाद पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा दिल्ली में पार्टी आलाकमान से मुलाकात कर लौटे थे और इस दौरान सचिन पायलट ने भी उनसे मुलाकात की थी। ऐसे में चर्चाएं इस बात को लेकर भी हैं कि जल्द ही पार्टी संगठन का विस्तार होगा और जिलाध्यक्षों की घोषणा की जाएगी। माना जा रहा है कि पहले चरण में जिन जिलों को जिलाध्यक्ष मिलने हैं, उनमें जयपुर का नाम शामिल नहीं है। यानि जयपुर के कार्यकर्ताओं को अपने जिलाध्यक्ष के लिए थोड़ा ज्यादा इंतजार करना होगा। लेकिन क्योंकि सीएम अशोक गहलोत पार्टी के तमाम नेता खुले तौर पर कह चुके हैं कि अब अगला लक्ष्य 2023 में पार्टी की सरकार को प्रदेश में वापस लाना है। ऐसे में ये काम भी जल्द ही निपटाया जा सकता है।

Previous articleकोरोना के नए वेरिएंट पर दिल्ली सीएम ने फिर जताई चिंता, स्वास्थ्य मंत्री बोले- सरकार गंभीर
Next articleAfter collapsing in front of Ashok Gehlot, BJP now seeks refuge in Amit Shah

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here