Home Education आरपीएससी अध्यक्ष की कुर्सी खाली होते ही फिर कांग्रेसियों में जगी उम्मीद,...

आरपीएससी अध्यक्ष की कुर्सी खाली होते ही फिर कांग्रेसियों में जगी उम्मीद, ये है वजह

193
0

The Angle

जयपुर।

प्रदेश बेरोजगारों का लखनऊ में महापड़ाव जारी है। इस बीच आरपीएससी के चेयरमेन भूपेंद्र कुमार सिंह सेवानिवृत्त हो गए। अब आरपीएससी का अगला चेयरमेन नियुक्त करने के लिए राज्य सरकार में कवायद शुरू हो चुकी है। डीजीपी की पोस्ट से रिटायर होने के बाद भूपेंद्र यादव को आरपीएससी में चेयरमेन के रूप में नियुक्ति दी गई थी। ऐसे में माना जा रहा था कि सरकार फिर से मौजूदा डीजीपी को ही आरपीएससी का अध्यक्ष बना सकती है। लेकिन अब सुनने में आ रहा है कि डीजीपी लाठर ने इसके लिए अपनी असमर्थता जता दी है।

RPSC चेयरमेन के पद पर मौजूदा या रिटायर्ड कर्मचारी को नहीं मिलेगी नियुक्ति

इसके बाद से माना जा रहा है कि राज्य सरकार ने भी ये फैसला कर लिया है कि अब किसी भी मौजूदा या सेवानिवृत्त सरकारी अधिकारी को आरपीएससी का चेयरमेन नहीं बनाया जाएगा। इसकी बजाय अब किसी पॉलिटीशियन या सेमी-पॉलिटीशियन को ही आरपीएससी चेयरमेन की कुर्सी पर बैठाया जाएगा। इससे जहां सीएम गहलोत के खास सभी लोगों में जहां फिर से उम्मीद की किरण जगी है, वहीं सीएम गहलोत एक नए मंथन में जुट गए हैं। क्योंकि अगर इस पैमाने को भी देखें तो मुख्यमंत्री के सामने ऐसे लोगों की एक अच्छी-खासी फेहरिस्त है, जिनमें से आरपीएससी अध्यक्ष का चुनाव किया जाना है। यही वजह है कि मुख्यमंत्री खुद अपने स्तर पर इसे लेकर मंथन में जुटे हुए हैं।

आरपीएससी अध्यक्ष का चुनाव सभी की सलाह से करना चाहते हैं मुख्यमंत्री

जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री कई नामों पर विचार कर रहे हैं, लेकिन फिलहाल किसी नाम पर आम सहमति नहीं बन पा रही है और क्योंकि RPSC अध्यक्ष का पद काफी अहमियत रखता है, ऐसे में इस पर मुख्यमंत्री सभी की सलाह से ही फैसला लेना चाहते हैं। चर्चा है कि आज जब प्रदेश प्रभारी अजय माकन और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा जब मुख्यमंत्री गहलोत से 12 दिसंबर की कांग्रेस की महंगाई के खिलाफ होने वाली महारैली को लेकर चर्चा करने पहुंचे, इस दौरान भी इस मुद्दे पर चर्चा की गई। ऐसे में माना जा रहा है कि एक-दो दिन में आरपीएससी के नए मुखिया की ताजपोशी हो सकती है। वहीं अगले साल 25 और 26 फरवरी को आरएएस की मुख्य परीक्षा भी आयोजित करवाई जानी है। ऐसे में सरकार चाहती है कि उसकी तैयारियों के लिए भी आरपीएससी के नए अध्यक्ष को पर्याप्त समय मिल पाए।

Previous articleAfter collapsing in front of Ashok Gehlot, BJP now seeks refuge in Amit Shah
Next articleकोरोना के नए वेरिएंट को रोकने के लिए सरकार ने लिया बड़ा फैसला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here