Home Politics मंत्री अशोक चांदना का बड़ा बयान- जयचंदों की वजह से हारी पार्टी,...

मंत्री अशोक चांदना का बड़ा बयान- जयचंदों की वजह से हारी पार्टी, बीजेपी से कोई शिकायत नहीं

437
0
प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते खेल मंत्री अशोक चांदना

The Angle

जयपुर।

जिला प्रमुख चुनाव में हुए बड़े खेल को लेकर बयानबाजियों का दौर शुरू हो गया है। इसे लेकर गहलोत सरकार में युवा मंत्री अशोक चांदना ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि उन्हें बीजेपी से कोई शिकायत नहीं है। उन्हें शिकायत तो उन लोगों से है जो बीजेपी के हाथों बिके हुए हैं और पार्टी में रहकर भाजपा के लिए काम कर रहे हैं। ये उन जयचंदों की शक्ल को साफ दिखाता है, उनकी मंशा को साफ दिखाता है कि वो रह तो कांग्रेस में रहे हैं, लेकिन काम बीजेपी का कर रहे हैं।

अशोक चांदना बोले- ऊपर तक जाएगी धोखाधड़ी की शिकायत

मंत्री चांदना ने कहा कि आलाकमान ने और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक साल पहले फॉरगॉट एंड फॉरगिव वाली पॉलिसी को अपनाते हुए, बगावत करने वाले विधायकों के प्रति बड़ा दिल रखते हुए सबका स्वागत किया और अगर उसके बाद इस प्रकार की धोखाधड़ी पार्टी के साथ में होती है, निश्चित रूप से ऊपर तक शिकायत तो जाएगी ही, रुकेगी नहीं। उन्होंने स्पष्ट किया कि आलाकमान के निर्देश की पहले भी पालना की गई थी और आगे भी पार्टी जो फैसला लेगी, वो भी सभी को मंजूर होगा।

खेल मंत्री बोले- बीजेपी का काम करना है तो बीजेपी में जाओ

चांदना ने कहा कि कोई कांग्रेसी नेता-कार्यकर्ता नाराज हो जाए, अपनी नाराजगी के चलते वो कोई गलत फैसला ले ले, वो तो बीजेपी में, कांग्रेस में सब जगह होता है। कोई बीजेपी का आदमी कांग्रेसी को किसी पद का लालच देकर ले जाए, या कांग्रेसी आदमी बीजेपी के आदमी को कोई परिस्थितिवश वो उसको तोड़कर लाए, ये स्थितियां-परिस्थितियां तो पहले हुई हैं। लेकिन ये पहली बार हो रहा है कि कांग्रेस में रहकर आदमी बीजेपी का काम कर रहा है, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। बीजेपी का काम करना है, बीजेपी में चले जाओ, कांग्रेस में रहकर ये काम करने की क्या जरूरत है।

खेलों में ग्रामीण प्रतिभा को आगे लाने में मिलेगी मदद

गौरतलब है कि अशोक चांदना एसएमएस स्टेडियम में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए ये बात कह रहे थे। ये प्रेस कॉन्फ्रेंस राज्य सरकार की ओर से प्रदेश में करवाए जाने वाले ग्रामीण खेलों को लेकर थी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में खेल को बढ़ावा देने और नई खेल प्रतिभाओं को गांव से बाहर लाने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में कमेटी बनाई जाएगी और राजस्व गांवों की टीमें बनाई जाएंगी। जो राजस्व टीम पंचायत में चैंपियन बनेगी, वो टीम पंचायत के नाम से उस ब्लॉक में खेलेगी, ताकि सेलेक्शन को लेकर कोई विवाद नहीं हो। ये खेल मात्र ग्रामीण लोगों में खेलों का चलन बढ़ाने के लिए और ग्रामीण प्रतिभाओं को गांव से बाहर लाने के लिए करवाए जाएंगे। इन खेलों से भले ही मैडल लाना तय नहीं होता, लेकिन आने वाले ओलंपिक्स जैसे खेलों के लिए प्रतिभाशाली खिलाड़ी जरूर मिलेंगे।

खेल विभाग ने डेवलप किया खास एप

खेल मंत्री ने बताया कि इसके लिए विभाग की ओर से एक बहुत ही साधारण एप डेवलप किया गया है, जिसमें उनकी डिटेल, उनके गांव, पंचायत की डिटेल, उनकी ज्योग्राफिकल डिटेल, आधार कार्ड और वे कौनसा खेल खेलेंगे उसकी डिटेल डालनी होगी। उनका रिकॉर्ड हमारे पास होने से हम खिलाड़ियों की प्रतिभा को देश के लिए बाहर ला सकेंगे।

Previous articleमुख्यमंत्री अशोक गहलोत का दावा, ढाई साल में दी एक लाख से ज्यादा नौकरियां
Next articleसतीश पूनिया के प्रदेशाध्यक्ष पद पर संकट के बादल छंटे, समर्थक दो साल के जश्न की तैयारी में जुटे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here