Home Business देश में फिर से लॉकडाउन की आहट, केंद्र सरकार ने तैयार किया...

देश में फिर से लॉकडाउन की आहट, केंद्र सरकार ने तैयार किया प्रस्ताव

24
0
लॉकडाउन (फाइल इमेज)

The Angle

नई दिल्ली।

देश में जिस तरह कोरोना महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है, उससे एक बार फिर देश में लॉकडाउन लगाए जाने को लेकर कयास लगाए जाने लगे हैं। हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद अपने एक संबोधन में ये स्पष्ट कर चुके हैं कि राज्यों को लॉकडाउन को कोरोना नियंत्रण के अंतिम विकल्प के रूप में इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसे में कहा जा रहा है कि सरकार इस बार देशव्यापी लॉकडाउन की बजाय ज्यादा संक्रमण वाले जिलों में लॉकडाउन का ऐलान कर सकती है। जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार ने इस संदर्भ में एक प्रस्ताव भी तैयार किया है। इसमें राज्यों से कहा गया है कि अत्यधिक संवेदनशील जिलों में सख्त लॉकडाउन लगाया जाना चाहिए, ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। हालांकि केंद्र ने इस लॉकडाउन के दौरान भी अत्यावश्यक सेवाओं को छूट देने की बात भी कही है।

कोरोना संक्रमण की दर 15 फीसदी से ज्यादा उन जिलों में लगाया जा सकता है लॉकडाउन

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने प्रस्ताव में कहा है कि यदि जल्द ही संबंधित जिलों में लॉकडाउन नहीं लगाया गया, तो संक्रमण के मामले और तेजी से बढ़ सकते हैं। प्रस्ताव में देशभर के ऐसे 150 जिलों में लॉकडाउन लगाने का सुझाव दिया गया है, जहां कोरोना संक्रमण से पॉजिटिविटी की दर 15 फीसदी से ज्यादा है। केंद्र ने कहा है कि इन जिलों में अत्यावश्यक सेवाओं में छूट देकर लॉकडाउन लगाना होगा, वरना स्वास्थ्य प्रणाली पर बहुत ज्यादा बोझ बढ़ जाएगा।

राज्यों से सलाह के बाद आखिरी फैसला लेगी केंद्र सरकार, प्रस्ताव में संशोधन संभव

गौरतलब है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय कल हुई एक उच्च-स्तरीय बैठक में इसकी सिफारिश की थी। हालांकि राज्य सरकारों से सलाह के बाद ही केंद्र सरकार इसपर आखिरी फैसला लेगी। वहीं माना जा रहा है कि राज्य सरकारों से सलाह करने के बाद इस प्रस्ताव में कुछ और जरूरी संशोधन किए जा सकते हैं। लेकिन मंत्रालय का मानना है कि अभी केस लोड और पॉजिटिविटी रेट को नियंत्रित करना जरूरी है।

कई राज्य पहले ही लगा चुके हैं लॉकडाउन

इससे पहले केंद्र सरकार ने रविवार को राज्यों से कहा था कि ऐसे जिलों में कहां पॉजिटिविटी रेट पिछले एक हफ्ते से 10% से अधिक है, वहां सख्त लॉकडाउन लगाया जाना चाहिए। साथ ही सरकार ने राज्यों को चेताया था कि मौजूदा संसाधनों से कोरोना की दूसरी लहर का मुकाबला नहीं किया जा सकता, इसमें निरंतर सुधार करना होगा। बता दें दिल्ली, महाराष्ट्र और झारखंड जैसे कुछ राज्य पहले से ही अपने यहां सीमित अवधि के लिए लॉकडाउन लगाने ऐलान कर चुके हैं। इसी के तहत नई दिल्ली में 3 मई की सुबह 5 बजे तक लॉकडाउन का ऐलान किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here