Home National सेंसर बोर्ड पानीपत फिल्म पर हस्तक्षेप लें संज्ञान : सीएम गहलोत

सेंसर बोर्ड पानीपत फिल्म पर हस्तक्षेप लें संज्ञान : सीएम गहलोत

93
0

दा एंगल।
जयपुर।
पदमावत के बाद आशुतोष गोवारिकर की फिल्म पानीपत भी विवादों में आ गई है। फिल्म को लेकर राजस्थान में राजनीति उबाल पर है। दरअसल फिल्म पानीपत में महाराजा सूरजमल का चित्रण गलत तरीके से दर्शाया गया है। इसको लेकर राजस्थान के आज कई जगह प्रदर्शन किया गया। दरअसल, फिल्म में महाराजा सूरजमल को मराठा पेशवा सदाशिव राव से संवाद के दौरान इमाद को दिल्ली का वजीर बनाने और आगरा का किला उन्हें सौंपे जाने की मांग करते दिखाया गया है। इस पर पेशवा सदाशिव आपत्ति जताते हैं।
सूरजमल भी अहमदशाह अब्दाली के खिलाफ युद्ध में साथ देने से इनकार कर देते हैं। सूरजमल को हरियाणवी और राजस्थानी भाषा के टच में भी दिखाया है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया

फिल्म को लेकर आ रही प्रतिक्रिया पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि फिल्म में महाराजा सूरजमल जी के चित्रण को लेकर जो प्रतिक्रियाएं आ रही हैं, ऐसी स्थिति पैदा नहीं होनी चाहिए थी। सेंसर बोर्ड इसमें हस्तक्षेप करे और संज्ञान ले। डिस्ट्रीब्यूटर्स को चाहिए कि फिल्म के प्रदर्शन को लेकर जाट समाज के लोगों से अविलम्ब संवाद करें।
फिल्म बनाने से पहले किसी को भी किसी के व्यक्तित्व को सही परिप्रेक्ष्य में दिखाना सुनिश्चित करना चाहिए ताकि विवाद की नौबत नहीं आए। मेरा मानना है कि कला का सम्मान होना चाहिए, कलाकार का सम्मान हो परंतु उनको भी ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी जाति, धर्म या वर्ग के महापुरुषों का और देवताओं का अपमान नहीं होना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here