Home National फिर आमने-सामने हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया

फिर आमने-सामने हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया

122
0

द एंगल।

जयपुर।

लव जिहाद के मुद्दे को लेकर सियासत एक बार फिर तूल पकड़ने लगी है। लव जिहाद के खिलाफ भाजपा शासित उत्तरप्रदेश, हरियाणा, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, उत्तराखंड जैसे राज्य अपने यहां इसके खिलाफ कानून लाने की बात कह चुके हैं। इसके बाद इस मुद्दे पर एकबार फिर भाजपा और कांग्रेस आमने सामने हो गए हैं। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जहां लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने को संविधान की मूल भावना के खिलाफ बताया है, तो वहीं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सीएम पर इस मुद्दे पर वोटबैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया है।

सीएम बोले- देश में सांप्रदायिक सौहार्द्र खत्म करने का बनाया जा रहा माहौल

आज सीएम गहलोत ने इस मुद्दे पर सिलसिलेवार 3 ट्वीट कर देश को हिंदू राष्ट्र बनाने की कोशिश में लगी भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि लव जिहाद शब्द भाजपा का दिया हुआ है। ये शब्द भाजपा ने देश को धर्म के नाम पर विभाजित करने और सांप्रदायिक सौहार्द्र बिगाड़ने के लिए गढ़ा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शादी करना दो लोगों की व्यक्तिगत स्वतंत्रता से जुड़ा मसला है। ऐसे में अगर राज्य इसे लेकर कानून बनाएंगे तो वह न तो किसी अदालत में ही मजबूती से खड़ा हो पाएगा और वयस्क लोगों को भी शादी करने के लिए राज्यों की दया पर निर्भर रहना पड़ेगा।

मुख्यमंत्री ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि देश में इस तरह का माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है जिससे सांप्रदायिक सौहार्द्र खत्म होगा और सामाजिक संघर्ष को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही ऐसे कानून संविधान में किसी भी आधार पर राज्यों द्वारा लोगों में भेदभाव नहीं किए जाने के प्रावधानों की भी अवहेलना करेंगे।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने किया पलटवार

वहीं मुख्यमंत्री के इन आरोपों का जवाब देते हुए भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि सीएम गहलोत का लव जिहाद पर दिया आज का बयान उनकी वोट बैंक की ओछी मानसिकता को दर्शाता है। कांग्रेस की देशभर में हो रही दुर्दशा से वो इतना विचलित हो जाएंगे, ये विश्वास नहीं होता। उन्होंने आगे कहा कि सनातन भारत की परंपरा में विवाह एक धार्मिक और सामाजिक मान्यता प्राप्त संस्कार है, ये केवल व्यक्ति की स्वतंत्रता तक सीमित नहीं है और इसलिए मुझे लगता है कि जिस तरह से उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाया है, ये बेबुनियाद है। किस तरह से इस्लामिक आतंकवाद के एजेंडे में लव जिहाद का शिकार होकर हमारी अबोध बच्चियां इस देश में उत्पीड़न का शिकार होती हैं ये जगजाहिर है, सबके सामने है। ऐसी परिस्थितियों में उनका ये बयान निश्चित रूप से एक ओछी मानसिकता का परिचायक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here