Home International Health फिर पैर पसार रहा कोरोना, गृह विभाग ने बढ़ाई सख्ती

फिर पैर पसार रहा कोरोना, गृह विभाग ने बढ़ाई सख्ती

203
0
राजस्थान में फिर बढ़े कोरोना के मामले, राज्य सरकार ने नई गाइडलाइन की जारी

The Angle

जयपुर।

प्रदेश में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में पिछले कुछ समय में जिस तरह से गिरावट देखी जा रही थी, उसके बाद से माना जा रहा था कि राजस्थान में कोरोना समाप्ति की ओर है। लेकिन हाल के दिनों में फिर से कोरोना के बढ़ते मामलों ने प्रदेशवासियों के साथ ही राज्य सरकार की भी चिंता बढ़ा दी है। वहीं अभिभावक भी कोरोना के मामलों को लेकर चिंतित हैं क्योंकि अब कोरोना स्कूल जा रहे बच्चों को भी अपनी जद में लेता जा रहा है। आज भी जयपुर में कोरोना संक्रमण के कुल 9 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से 3 बच्चे निजी स्कूलों में पढ़ते हैं। वहीं पिछले दिनों भी वैशाली नगर के चित्रकूट में स्थित एक निजी स्कूल में बच्चों के कोरोना संक्रमित पाए जाने का मामला सामने आया था।

कोरोना संक्रमण को लेकर गृह विभाग ने जारी की नई गाइडलाइन्स

इसे देखते हुए हाल ही में नव नियुक्त शिक्षा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला ने शिक्षा संकुल में संबंधित अधिकारियों की मीटिंग भी ली थी। वहीं अब गृह विभाग ने भी मामलों की गंभीरता को देखते हुए कोरोना को लेकर नई गाइडलाइन्स जारी कर दी हैं। गाइडलाइन्स में साफ कहा गया है कि स्कूल बच्चों के अभिभावकों पर ऑफलाइन क्लासेज लेने के लिए दबाव नहीं बना सकेंगे। इसके अलावा जो बच्चे ऑफलाइन क्लासेज के लिए स्कूल आ रहे हैं, उनके अभिभावकों से भी लिखित में अनुमति लेनी होगी। वहीं गृह विभाग ने आगामी आदेश तक शिक्षण संस्थानों में कैंटीन बंद रखने के निर्देश दिए हैं।

गाइडलाइन्स में ये दिए गए हैं निर्देश

  • शिक्षण संस्थान के पूरे स्टाफ और बस/कैब/ऑटो चालकों को वैक्सीन की दोनों डोज लगवाना अनिवार्य।
  • शिक्षण संस्थान के स्टाफ और बच्चों को बस/कैब/ऑटो में बैठक क्षमता के अनुसार बैठाने की होगी अनुमति।
  • ऑफलाइन क्लासेज के लिए अभिभावकों की लिखित अनुमति होगी अनिवार्य।
  • ऑफलाइन क्लास लेने के लिए बच्चों पर दबाव नहीं बना सकेंगे स्कूल्स।
  • स्कूल नहीं आने वाले बच्चों के लिए साथ में ऑनलाइन क्लास भी करनी होगी संचालित।
  • संस्थान के स्टाफ और बच्चों को स्क्रीनिंग के बाद ही स्कूल/कॉलेज में प्रवेश की होगी अनुमति।
  • संस्थान में और आते-जाते समय नो मास्क-नो एंट्री की पालना करना होगा जरूरी।
  • नियमित कक्षाओं में भी सुनिश्चित करनी होगी दो गज की दूरी।
  • शिक्षण संस्थानों में प्रार्थना सभा या अन्य भीड़भाड़ वाले कार्यक्रम का नहीं हो सकेगा आयोजन।
  • संस्थान परिसर में आगामी आदेश तक कैंटीन रहेंगी बंद।
  • क्लास रूम्स और शिक्षण सामग्री को अनिवार्य रूप से करना होगा सैनिटाइज।
  • हॉस्टल में रह रहे बाहर से आने वाले बच्चों को आरटीपीसीआर टैस्ट के बाद ही दिया जा सकेगा प्रवेश, रिपोर्ट आने तक करना होगा क्वारंटाइन।
  • संस्थान परिसर में किसी भी बच्चे या स्टाफ मेंबर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर संबंधित कक्ष को 10 दिनों तक करना होगा बंद, अस्पताल में भर्ती करवाने के लिए संस्थान करेगा एंबुलेंस का इंतजाम।
  • कोरोना गाइडलाइन्स की पालना सुनिश्चित करना स्कूल प्रशासन की होगी जिम्मेदारी।

विधानसभा सदस्य के पीए सहित 3 लोग हुए कोरोना संक्रमित

गौरतलब है कि आज विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी के पीए, पर्सनल फोटोग्राफर और ड्राइवर भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जोशी इन दिनों अपने विधानसभा क्षेत्र नाथद्वारा के दौरे पर हैं। यानि कोरोना संक्रमण अब आम के साथ ही बेहद खास लोगों को भी फिर से संक्रमित करने लगा है। ऐसे में राज्य सरकार की आमजन से यही अपील है कि वे कोरोना संयत व्यवहार करें, ताकि कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरी लहर को आने से रोका जा सके।

Previous articleCM Gehlot urges centre to raise Covid compensation to Rs 4 lakh
Next articleमहंगाई के मुद्दे पर घेरने के लिए कांग्रेस ने कसी कमर, दिल्ली में 12 दिसंबर को होगी महारैली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here