Home International Health चीन से बाहर भी पैर पसार रहा है कोरोना वायरस, ये रखें...

चीन से बाहर भी पैर पसार रहा है कोरोना वायरस, ये रखें सावधानी

58
0

The Angle

जयपुर।

कोरोना वायरस चीन से निकलकर अब एशिया के दूसरे देशों में पांव पसारने लगा है। अब तक चीन के अलावा इस वायरस के 3 मामले जापान और थाइलैंड और एक मामला दक्षिण कोरिया में भी सामने आ चुका है। ऐहतियात के तौर पर आस्‍ट्रेलिया में भी चीन से लौटे एक व्यक्ति की गहन जांच की जा रही है। पूरी दुनिया में इस वायरस को लेकर कई देशों ने चीन की यात्रा करने वाले लोगों के लिए अलर्ट जारी किया है। भारत सरकार ने भी इसी तरह ट्रेवल एडवाइजरी जारी की हुई है। अकेले चीन में ही अब तक इसके करीब 220 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 3 लोग इस वायरस की वजह से अपनी जान गंवा चुके हैं।

 

चीन के वुहान में सामने आया था पहला मामला

बता दें कि इस वायरस का सबसे पहला मामला चीन के वुहान शहर में सामने आया था। वर्ष 2002 और 2003 में इसकी वजह से चीन और हांगकांग में करीब 650 लोगों की जान चली गई थी। इस साल इस वायरस से जो 3 मौत हुई हैं वे भी वुहान शहर में ही हुई हैं। चीन में अब तक इसके जो मामले सामने आए हैं उनमें 198 मामले अकेले वुहान में पाए गए हैं।

 

वायरस से जुड़ी जानकारियों को लेकर असमंजस

गौरतलब है कि इस वायरस को लेकर अभी तक कई सारी जानकारियां सामने नहीं आ सकी हैं। इनमें से एक और सबसे अहम् जानकारी इस वायरस के फैलने को लेकर है। अभी तक इसे लेकर जो दो बातें सामने आई हैं, उनमें इसका स्रोत सी फूड मार्केट और पशुओं को माना जा रहा है। WHO ने ऐसी आशंका जताई है, कि इसका स्रोत पशु हो सकते हैं। वहीं इस वायरस को लेकर एक बेहद खास जानकारी जो सामने आई है वह यह भी है, कि यह किसी भी संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आने से फैलता है।

 

भारत सरकार की एडवाइजरी में जारी बातें

भारत सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की ओर से कोरोना वायरस को लेकर पहले ही ट्रेवल एडवाइजरी जारी की जा चुकी है। इसके अलावा मंत्रालय ने लोगों को कुछ एहतियात बरतने की भी सलाह दी है। ये सलाह चीन की यात्रा करने वालों के अलावा अन्‍य लोगों के लिए भी है।

एडवाइजरी में जारी की गई हैं ये बातें

  • अपने साथ ताज़ा खाना रखें और जितना हो सके बाहर का खाना खाने से बचें।
    हाथ मिलाने से बचें, यदि जरूरी भी हो तो हाथ मिलाने के बाद हाथों को साबुन से अच्‍छे से धो लें।
  • छींकने या खांसने के दौरान मुंह को कपड़े या रुमाल से कवर कर लें।
    बीमार लोगों के संपर्क में आने से बचें। खास तौर पर खांसी और छींकने वाले रोगियों से दूरी बनाए रखें।
  • जानवरों के नज़दीक जानें से बचें। इसके अलावा मीट को अच्छे से पकाकर ही खाएं।
  • किसी भी तरह से जानवरों के लिए बनाए गए फार्म, पशुओं के बाजार और बूचड़खाने में जाने से बचें।
  • घर से बाहर निकलते समय मुंह पर मास्‍क जरूर लगाएं।
  • चीन की यात्रा करने वाले लोग अपने स्‍वास्‍थ्य पर करीब से नज़र जरूर रखें, खांसी होने या लगातार छींक आने पर डॉक्‍टर की सलाह भी जरूर लें। स्वास्थ्य संबंधी कोई भी परेशानी होने पर यात्रा से बचें।
  • चीन जाने वाले किसी भी भारतीय को यदि यात्रा के दौरान विमान में अपनी तबियत खराब महसूस हो तो इसकी जानकारी तुरंत विमान में मौजूद परिचालिका को दें। परिचालिका से मास्‍क भी जरूर लें। ऐसे यात्री एयरपोर्ट हेल्‍थ अथॉरिटी और इमिग्रेशन डिपार्टमेंट से संपर्क करें।
  • अपने स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में जानकारी देते समय डॉक्‍टर को अपनी ट्रेवल हिस्‍ट्री भी जरूर बताएं।

 

इन बातों का भी रखें ध्यान

यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के मुताबिक Severe acute respiratory syndrome या SARS निमोनिया का खतरनाक रूप है। ऐसे मामले में सांस लेने में तकलीफ की शिकायत भी होती है और इसके चलते पीड़ित व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। खांसी-जुकाम का होना इसके रोगी की पहचान है। खांसने और छींकने की वजह से यह वायरस खुली हवा में फैल जाता है। ऐसे में व्‍यक्ति के आसपास का वातावरण भी दूषित हो जाता है, जिसकी वजह से वहां मौजूद अन्‍य लोग भी इसकी चपेट में आसानी से आ जाते हैं।

सबसे खतरनाक बात ये है, कि इसका वायरस कुछ माह से लेकर कई वर्षों तक और बेहद कम तापमान में भी जिंदा रह सकता है। यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन की मानें तो यह वायरस से ग्रसित रोगी के ठीक होने के बाद यह वायरस दोबारा हमला कर सकता है। इसके मुताबिक इस वायरस के संपर्क में आने के 2-10 दिन बाद व्‍यक्ति पर इसका असर दिखाई देने लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here