Home International Health कोरोना की मार झेल रहे अमेरिका की अकड़ नहीं हुई कम, भारत...

कोरोना की मार झेल रहे अमेरिका की अकड़ नहीं हुई कम, भारत को दी इस बात की ‘धमकी’

386
0

द एंगल।

नई दिल्ली।

दुनिया इस वक्त कोरोना महामारी के दौर से गुजर रही है। दुनिया की महाशक्ति कहलाने वाले अमेरिका को भी कोरोना वायरस ने घुटनों पर लाकर रख दिया है। बावजूद इसके अमेरिका के तेवर कम होते नज़र नहीं आ रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को धमकी भरे लहज़े में कहा है कि अगर भारत कोरोना वायरस से लड़ने के लिए महत्वपूर्ण दवा का निर्यात नहीं करता है, तो अमेरिका उससे इस बात का बदला लेगा। ट्रंप के इस बयान के बाद भारत के विदेश मंत्रालय की ओर से भी बयान सामने आया है। बयान में कहा गया है कि मानवीय आधार पर अपने सहयोगी देशों को जो हम पर निर्भर हैं, उन्हें पर्याप्त मात्रा में दवाओं की सप्लाई की जाएगी। इसमें पैरासिटामॉल के साथ ही हाइड्रोक्सिक्लोरोक्वीन शामिल हैं।

कोरोना संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित देशों को निर्यात करेंगे दवा

इसके साथ ही विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि हम जरूरी दवाओं की सप्लाई उन देशों को भी करेंगे, जो कोरोना संक्रमण से बुरी तरह से प्रभावित हैं। इसके साथ ही हमारी कोशिश होगी कि इस मामले का बेवजह राजनीतिकरण न होओ।

दुनियाभर के वैज्ञानिक वैक्सीन बनाने में जुटे, किसी को सफलता नहीं

इसके पहले अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का यह बयान उस वक्त सामने आया, जब इस जानलेवा वायरस से यूएस में 3 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि हजारों लोग इसके चलते अपनी जान गंवा चुके हैं। इसीलिए इस बीमारी का वैक्सीन बनाने के लिए दुनियाभर के देशों में वैज्ञानिक जुटे हुए हैं, हालांकि अभी तक किसी भी देश को अब तक सफलता नहीं मिल सकी है।

ट्रंप ने कही यह बात

अमेरिका और भारत के बीच संबंध अच्छे हैं। कोरोना संकट के बीच अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच चर्चा भी हो चुकी है। इसके बावजूद ट्रंप का यह विवादित बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि ‘मेरी पीएम मोदी से रविवार सुबह बात हुई और मैंने कहा कि हम उन्हें बढ़ावा देंगे, अगर वे हमें दवाई सप्लाई करना जारी रखते हैं। अगर वे ऐसा नहीं करते हैं, तो कोई बात नहीं, लेकिन तब बदला लिया जाएगा। ऐसा क्यों नहीं होना चाहिए?’

अमेरिका ने भारत से इन दवाओं की मांग की है

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए अब तक कोई वैक्सीन नहीं बना है। लेकिन मलेरिया के इलाज के लिए दी जाने वाली दवा हाइड्रोक्सिक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroqunie) का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके कुछ बेहतर परिणाम सामने आए हैं। हालांकि इस दवा की भारत में हो रही कमी के बाद भारत सरकार की ओर से इसके निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

दुनिया के लगभग सभी देशों तक पहुंचा कोरोना संक्रमण

कोरोना का कहर किस कदर पूरी दुनिया में बरपा हुआ है इस बात का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनियाभर में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 12 लाख तक पहुंच चुकी है, वहीं 70 हजार मौतें हो चुकी हैं। चीन से शुरू हुआ कोरोना संक्रमण इस वक्त दुनिया के लगभग सभी देशों को अपनी चपेट में ले चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here