Home Rajasthan लॉकडाउन के बाद फिर से खुलीं अदालतें, सोशल डिस्टेंसिंग का रखा जा...

लॉकडाउन के बाद फिर से खुलीं अदालतें, सोशल डिस्टेंसिंग का रखा जा रहा पूरा ध्यान

46
0

द एंगल।

जयपुर।

राजस्थान हाईकोर्ट में कोविड- 19 के चलते लॉकडाउन और दो सप्ताह की गर्मियों की छुटि्टयों के बाद आज सोमवार से फिर से सामान्य रूप से न्यायिक कामकाज शुरु हो गया। करीब 100 दिनों के बाद फिर से खुली अदालतों में सभी लोग सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने जैसे जरूरी नियमों की पालना करते दिखे। वकीलों और पक्षकारों को ई-पास के जरिए ही प्रवेश दिया गया। बता दें हाईकोर्ट में केसों की सुनवाई सुबह 10.30 से 4.30 बजे तक होगी और इस दौरान एक घंटे का लंच रहेगा। जयपुर पीठ में सीजे सहित अन्य जज सुनवाई करेंगे और एक कोर्ट में सौ केसों को सूचीबद्द किया जाएगा। सुनवाई होने वाले केसों में नए तथा जरूरी केसों के अलावा तारीख वाले केस भी रहेंगे। इस संबंध में आधिकारिक सूचना 12 जून को जारी एक अधिसूचना के जरिए दी गई थी।

हाईकोर्ट की वेबसाइट से बनवा सकते हैं ई-पास, वकीलों की कुर्सियां भी दूर-दूर लगाईं

हाईकोर्ट की वेबसाइट पर दिए गए लिंक के जरिए ई-पास बनवाया जा सकता है। साथ ही सभी वकीलों, कोर्टकर्मियों और अन्य पक्षकारों को भी थर्मल स्कैनिंग के बाद ही कोर्ट में प्रवेश दिया जा रहा है। सुनवाई के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा जा रहा है। इसके लिए कोर्ट कक्ष में भी कुर्सियां निश्चित दूरी पर ही लगाई गई हैं। ताकि एक-दूसरे से उचित दूरी पर वकील बैठ सकें।

वीसी व व्यक्तिगत उपस्थति के जरिए होगी सुनवाई

कोर्ट कक्ष में वकीलों को व्यक्तिगत उपस्थिति के साथ ही वीसी के जरिए भी पैरवी करने का विकल्प दिया गया है। हालांकि वीसी के जरिए केवल उन्हीं केसों की सुनवाई होगी जो नए हों और उस केस से जुड़े सभी वकील वीसी के जरिए ही पैरवी कर रहे हों। इसके अलावा नए केस फाइल करने के लिए भी व्यक्तिगत रूप से या ई-फाईलिंग के जरिए दायर करने का विकल्प दिया जा रहा है।

जरूरी होगा मास्क लगाना

सुनवाई के दौरान कोर्ट में वकीलों और पक्षकारों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। हालांकि कोर्ट गाउन और कोट पहनने को अनिवार्य करने की बजाय इसमें विकल्प दिया गया है। इसके साथ ही दस्ताने पहनने की भी सलाह दी गई है। अभी लॉ इंटर्न्स को कोर्ट परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई है। वहीं सरकार की गाइडलाइन के अनुसार 65 साल से ज्यादा के वकीलों को व्यक्तिगत उपस्थिति से बचने के लिए कहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here