Home Angle नोटबंदी के 3 साल बाद हुआ 1600 करोड़ की सम्पति का खुलासा

नोटबंदी के 3 साल बाद हुआ 1600 करोड़ की सम्पति का खुलासा

476
0
सम्पति

द एंगल।

चेन्नई।

आयकर विभाग ने बड़ी कारवाई करते हुए तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जय ललिता की सहयोगी वी के शशिकला की 1600 करोड़ की बेनामी सम्पति को जब्त किया है। फिलाल शशिकला पिछले चार सालो से कर्नाटक के परप्पाना अग्रहारा सेंट्रल जेल में हैं।

नोटबंदी के बाद खरीदी थी प्रॉपर्टी-

अधिकारियों ने जांच के दौरान पता लगाया की शशिकला की चेन्नई, पुंडुचेरी, कोइम्बटोर में बेनामी सम्पति है। इन सभी फर्जी सम्पतियो को अधिकारियो ने जब्त कर लिया है। इन सब प्रॉपर्टी की कीमत 2016 के नवम्बर महीने में 1500 करोड़ थी जिसे शशिकला ने खरीदा था। 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 2000 के नोटों पर पाबंदी लगा दी थी। जिसके तुरंत बाद शशिकला ने इन सभी सम्पतियो को खरीदा था।

2017 में हुई थी सम्पति पर करवाई-

अधिकारियो ने बताया की शशिकला के खिलाफ बेनामी संपत्ति लेनदेन अधिनियम, 1988 की धारा 24 (3) के तहत कुर्की का अस्थायी आदेश जारी किया है। आयकर विभाग ने 2017 में कई बड़े नेताओ और उनसे सम्बंधित लोगो के घर छापेमारी की थी। इस छापेमारी में कई फर्जी सम्पतियो के दस्तावेज मिले थे। जिसकी जांच के बाद अब 2 साल बाद आयकर विभाग ने कुल सम्पतियो का पता लगाया है। जिन सबके घर छापा मारा गया वे सभी फिलाल जेल में कैद है अपनी सजा काट रहे है।

आय से ज्यादा सम्पति-

अधिकारियो ने ये भी बताया की ये सभी पैसो का लें दें नकद हुआ है। और नोटबंदी के समय नकद लेन देन पर रोक थी। जिन लोगो के खिलाफ करवाई की गयी थी उन सभी की आय से ज्यादा उनकी सम्पति थी। दोनों पक्षों के बीच ‘समझौता ज्ञापन’ पर हस्ताक्षर के जरिये किया गया। जबकि नोटबंदी के दौरान नगद लेन-देन पर रोक थी। विगत दिनों में इस मामले के संबंध में कर अधिकारियों द्वारा उनसे इस बारे में पूछताछ की गई थी।

जयललिता की मौत के बाद से ही शशिकला पर कड़ी करवाई चल रही है। उन पर आरोप है की उन्होंने जयललिता को धीमा जहर देकर मारने की कोशिश की। इस आरोप पर उन पर कड़ी कार्रवाई भी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here