Home Education उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने शिक्षा मंत्री डोटासरा को लिखा पत्र, रीट...

उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने शिक्षा मंत्री डोटासरा को लिखा पत्र, रीट में रिक्त पदों को लेकर की मांग

32
0
Deputy Leader of Opposition Rajendra Rathod wrote a letter to Education Minister Dotasara (File Image)

The Angle
जयपुर।
राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने शिक्षा मंत्री को पत्र लिखा है। राठौड़ ने पत्र के माध्यम से रीट भर्ती 2016 के अंग्रेजी विषय के 826 तथा विज्ञान-गणित के 877 रिक्त पदों पर राज्य सरकार के परिपत्र (सर्कुलर) को संज्ञान में लाते हुए नियमानुसार अतिशीघ्र प्रतीक्षा सूची जारी करने की मांग की।

राठौड़ ने पत्र में षिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा से अनुरोध किया कि उक्त परिपत्र को संज्ञान में लाते हुए इसे लागू करवाए एवं रीट भर्ती 2016 अंग्रेजी व गणित विज्ञान के रिक्त पदों पर नियमानुसार प्रतिक्षा सूची जारी करने का निर्देश दे।

राजेंद्र राठौड़ ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना

इसी के साथ राज्य की गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होने कहा की गहलोत सरकार को राज्य में कम्प्यूटर शिक्षकों की भर्ती कराए जाने के अपने वादे को तत्काल पूरा करना चाहिए। भर्ती प्रक्रिया का अधर में लटकना युवाओं के साथ धोखा है,यही वजह है कि युवाओं को दिल्ली कूच करने के लिए मजबूर होना पड़ा है।

राजस्थान में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भी उठाया सवाल

इससे पहले जोधपुर में दुष्कर्म पीड़िता के आत्महत्या करने के मामले में भी राजेंद्र राठौड़ राज्य सरकार पर हमला बोल चुके है। उन्होने गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा की जोधपुर में दुष्कर्म की घटना से आहत नाबालिग द्वारा आत्महत्या किया जाना प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवालिया निशान है? कांग्रेस सरकार नाबालिग बच्चियों से दरिंदगी और बलात्कार जैसे अपराधों को रोकने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है। ये दुर्भाग्यपूर्ण है।

राजस्थान में महिलाओं की सुरक्षा बनी मजाक

उन्होने कहा की राजस्थान में महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा आज सबसे बड़ा सवाल है। अपराधों का गढ़ बन चुके प्रदेश में इनकी सुरक्षा मजाक बन गई है। इस तरह के अपराधों की खबरें मन को विचलित करती है। मुख्यमंत्री के गृह विभाग मुखिया होने के बाद भी कानून व्यवस्था अपराधियों के समक्ष बौनी नजर आ रही है।

Previous articleबाल श्रम निषेध दिवस पर कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चों के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का संवेदनशील फैसला
Next articleकोरोना काल में जीएसटी काउंसिल ने दी राहत, ब्लैक फंगस की दवा पर नहीं लगेगी GST

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here