Home National पांच साल में पहली बार जुलाई में देशभर में कम हुई बारिश

पांच साल में पहली बार जुलाई में देशभर में कम हुई बारिश

106
0

दा एंगल।
जयपुर।
देशभर में मानसून के कई रंग दिख रहे हैं। कहीं पर बारिश तो कहीं पर सूखा नजर आ रहा है। पांच सालों में पहली बार इस साल जुलाई के महीने में सबसे कम बारिश हुई है। आमतौर पर जून से सितंबर के बीच जुलाई का महीना सबसे नमी वाला होता है। लेकिन इस साल कम बारिश ने खरीफ की फसलों को लेकर चिंता बढ़ा दी है।

पांच सालों में कम बारिश

यदि अगस्त में भी 97 प्रतिशत बारिश के अनुमान के विपरीत कम वर्षा होती है तो इसका प्रभाव तिलहन और दालों की फसल पर पड़ेगा जिन्हें ज्यादातर बारिश वाले इलाकों में उगाया जाता है। देश में जुलाई के दौरान 285.3 मिमी वर्षा के औसत से 90 प्रतिशत लॉन्ग पीरियड ऑफ एवरेज की बारिश हुई, जबकि भारतीय मौसम विभाग ने 103 प्रतिशत का अनुमान लगाया था।

किसानों की चिंताएं बढ़ी

राजस्थान में भी बारिश की अनिश्चितता ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी है। प्रदेश में सावन पूरा समाप्त होने को है, लेकिन अभी तक प्रदेश कहीं भी झमाझम बारिश नहीं हुई है। राजस्थान में मानसून इन दिनों रूठा से नजर आ रहा है। सावन बीतने को है, लेकिन अभी तक वो बारिश नहीं हुई जिसका प्रदेशवासियों को इंतजार था। प्रदेश में पांच साल बाद जुलाई में सबसे कम बारिश हुई है।

बारिश नही होने से किसानों को चिंता होने लगी है। अगर मानसूनी बारिश नहीं हुई तो फसलाें को बहुत नुकसान होगा। अब प्रदेशवासियों को भादो में अच्छी बारिश की उम्मीद है। बारिश नहीं होने की वजह से प्रदेश के कई हिस्सों में तापमान में बढ़ोतरी हुई है। बारिश के नहीं होने से लोगों को भारी उमस और गर्मी झेलनी पड़ रही है।
मौसम विभाग का कहना है कि जल्द ही प्रदेश में जल्द ही मानसून फिर से सक्रिय होगा और जल्द ही लोगाें को गर्मी से राहत मिलेगी। ऐसे में लोगों को उम्मीद है कि जल्द ही बारिश होगी और उनको राहत मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here