Home Rajasthan गहलोत सरकार की प्रदेश के पदक विजेता खिलाड़ियों को बड़ी सौगात,...

गहलोत सरकार की प्रदेश के पदक विजेता खिलाड़ियों को बड़ी सौगात, खेलमंत्री चांदना ने किया ऐलान

161
0

द एंगल।

जयपुर।

गहलोत सरकार ने प्रदेश के पदकधारी खिलाड़ियों को बड़ी सौगात दी है। अब राजस्थान के पदक विजेता खिलाड़ियों को सीधे आवेदन के आधार पर नियुक्ति दी जा सकेगी। इससे प्रदेश के साढ़े चार सौ से अधिक पदक विजेता खिलाड़ियों को फायदा मिलेगा।

आउट ऑफ टर्न अपॉइंटमेंट पॉलिसी के तहत खिलाड़िओं को मिलेगी नौकरी

आउट ऑफ टर्न अपॉइंटमेंट संशोधन नियम 2020 को लेकर आज जयपुर स्थित सवाई मानसिंह स्टेडियम प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए युवा एवं खेल मामलों के मंत्री अशोक चांदना ने इस बारे में जानकारी दी। चांदना ने बताया कि आउट ऑफ टर्न अपॉइंटमेंट पॉलिसी के तहत वर्ष 2016 से 2020 तक के लगभग 465 पदक विजेता खिलाड़ियों को इसका लाभ मिलेगा। इस मौके पर उन्होंने प्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों में सीधी नियुक्ति के बारे में विस्तृत जानकारी साझा कर खिलाड़ियों से मंगवाए जाने वाले आवेदन पत्र को भी लॉन्च किया।

सीधी नियुक्ति के लिए खिलाड़ियों से मंगवाया जाने वाला आवेदन पत्र लॉन्च करते युवा एवं खेल मंत्री अशोक चांदना

खिलाड़ियों को नौकरी दिलाने के लिए बनाई विशेष टीम

चांदना ने बताया कि प्रदेश सरकार की इस पॉलिसी की बदौलत राजस्थान का कोई भी पदक विजेता खिलाड़ी बेरोजगार नहीं रहेगा। हमने खेल विभाग में एक विशेष टीम बनाई है। यह टीम खिलाड़ियों को नौकरी दिलाने का प्रयास करेगी।

अशोक चांदना बोले- खिलाड़ी पलायन न करें इसलिए किया फैसला

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह कदम निरोगी राजस्थान और “फिट राजस्थान-हिट राजस्थान” कैंपेन को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण कड़ी साबित होगा। अशोक चांदना ने कहा कि निरोगी राजस्थान बनाने के लिए हमें खलों को अपनाना होगा। लेकिन खेलों में अवसर नहीं मिल पाने की वजह से प्रदेश के खिलाड़ी पलायन कर जाते हैं और हम नहीं चाहते कि राजस्थान से खिलाड़ी पलायन करें। इसलिए सरकार ने खिलाड़ियों को सीधे नौकरी देने का फैसला किया है। अब पदक विजेताओं को अब सीधे नौकरी मिलेगी। सीएम गहलोत ने खिलाड़ियों के हित में फैसला किया अब प्रदेश में खिलाड़ियों का भविष्य सुरक्षित रहेगा।

ग्रामीण खेलों का भी आयोजन करवाएगी सरकार

इसके साथ ही खेल मंत्री अशोक चांदना ने यह भी घोषणा की कि प्रदेश के परंपरागत खेलों को लुप्त होने से बचाने के लिए अब प्रदेश में ग्रामीण खेलों का भी आयोजन किया जाएगा। ताकि आज की पीढ़ी परंपरागत खेलों को भूले नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here