Home International Health कोरोना के नए वेरिएंट को रोकने के लिए सरकार ने लिया बड़ा...

कोरोना के नए वेरिएंट को रोकने के लिए सरकार ने लिया बड़ा फैसला

196
0
भारत ने अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें 15 दिसंबर से शुरू करने का फैसला रद्द किया

The Angle

नई दिल्ली।

देश में कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों में गिरावट को देखते हुए हाल ही में केंद्र ने आगामी 15 दिसंबर से अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों को शुरू करने की मंजूरी दी थी। माना जा रहा था कि अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों को मंजूरी मिलने से देश के टूरिज्म सेक्टर को नया बूम मिलेगा। लेकिन कोरोना संक्रमण के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के तेजी से दुनिया में अन्य देशों में बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र ने इस फैसले को फिलहाल के लिए रद्द कर दिया है।

डीजीसीए ने कहा- 15 दिसंबर से शुरू नहीं होंगी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें

नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) ने कहा है कि वह इस बारे में अभी मंथन कर रहा है और जल्द ही अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ान सेवाओं को वापस शुरू करने पर फैसला लेगा। डीजीसीए ने कहा कि वह कोरोनावायरस के नए वैरिएंट के उभार को देखते हुए स्थिति पर करीब से नजर रख रहा है। फिलहाल 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू नहीं होंगी। आगे की तारीख पर हालात के मुताबिक फैसला लिया जाएगा।

पीएम मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के लिए ढील देने के फैसले की समीक्षा के दिए थे निर्देश

गौरतलब है कि हाल ही में पीएम मोदी ने स्वास्थ्य मंत्रालय के आला अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय बैठक में इसके संकेत दिए थे। उन्होंने कोरोना संक्रमण के नए वेरिएंट को देखते हुए एहतियात के तौर पर अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों में दी गई ढील के फैसले की संबंधित मंत्रालय को समीक्षा करने को कहा था।

गृह मंत्रालय ने हाल ही में कोरोना को लेकर जारी की थी नई गाइडलाइन

बता दें गृह मंत्रालय ने ओमिक्रॉन के दुनिया में तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए हाल ही में नई संशोधित कोरोना गाइडलाइन जारी की थी। इसके मुताबिक अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के सभी यात्रियों को एयरपोर्ट पर कोरोना की जांच करवाना अनिवार्य होगा। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसे आइसोलेट किया जाएगा, जबकि व्यक्ति की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर भी उसे 10 दिनों के लिए क्वारंटाइन होना अनिवार्य होगा।

Previous articleआरपीएससी अध्यक्ष की कुर्सी खाली होते ही फिर कांग्रेसियों में जगी उम्मीद, ये है वजह
Next articleकिसानों की मौत को लेकर कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने संसद में लिखित में दिया जवाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here