Home Entertainment ‘अरे दादा, हम तो तरस गये हैं मूंछ लगाने को!‘ यह कहना...

‘अरे दादा, हम तो तरस गये हैं मूंछ लगाने को!‘ यह कहना है एण्ड टीवी के हप्पू सिंह का

112
0

द एंगल।

एंटरटेनमेंट डेस्क।

योगेश त्रिपाठी उर्फ दरोगा हप्पू सिंह भारतीय टेलीविजन के सबसे चहेते किरदारों में से एक हैं। बड़ी ही शान से अपनी तोंद दिखलाते दरोगा हप्पू सिंह ने दर्शकों के दिलों में एक खास जगह बना ली है, खासकर उनका ‘न्यौछावर कर दो’ वाला तकियाकलाम तो सबका पसंदीदा बन चुका है। साथ ही पान खाने का उनका अलग अंदाज़ भी लोगों को खूब भाता है। लेकिन एक और चीज है जो उन्हें औरों से अलग बनाती है और वह है उनकी मूंछें! कई लोगों को उनकी मूंछों से बेइंतहा प्यार है और अक्सर उनकी तारीफ में लोग कहते हैं, ‘‘मूंछें हों तो दरोगा हप्पू सिंह जैसी हों- धारदार नुकीली मूंछे।’

मूछों को फिर से अपने चेहरे पर लगाने का इंतज़ार कर रहे हैं दरोगा हप्पू सिंह

अपने किरदार और अपनी इन्हीं नुकीली मूंछों को याद करते हुए योगेश त्रिपाठी यानी दरोगा हप्पू सिंह कहते हैं कि उन्हें अपनी धारधार नुकीली मूंछें एक बार फिर लगाने का बेसब्री से इंतजार है। वैसे अगर आप यह सोचते हैं कि सिर्फ हप्पू सिंह को ही अपनी मूछों से लगाव है तो आपको यह शो दोबारा जरूर देखना चाहिए। क्योंकि उनकी दबंग दुल्हनिया राजेश का किरदार निभा रहीं कामना पाठक को भी उनकी मूंछें इतनी पसंद हैं कि उस पर उन्होंने एक गाना ही लिख डाला और हर समय उसे गाती भी रहती हैं। यह गाना कुछ इस तरह है, ‘‘सैंय्या मूंछें ना काटियो वरना मर जाएंगे हम, तेरी मूंछ के लिए तो कुछ भी कर जाएंगे हम।‘ कई बार कामना कैमरे के सामने और कैमरे के पीछे भी हप्पू की खूबसूरत मूंछ के लिए इस गाने को गुनगुनाती रहती हैं। यह एक तरह का स्टेटमेंट-सा बन गया है।

योगेश त्रिपाठी उर्फ हप्पू सिंह बेसब्री से कर रहे हैं फिर से शूटिंग शुरु होने का इंतज़ार

इस बारे में योगेश त्रिपाठी कहते हैं, “हप्पू सिंह के रूप में खुद को दर्शकों का मनोरंजन करते हुए देखे काफी लंबा वक्त हो गया है। इस बात को लेकर फैन्स जोक और वन-लाइनर भी सुना रहे हैं। इस किरदार को काफी अच्छी तरह से लिखा गया है, जैसे उसकी तोंद, तेल से चुपड़े बाल, नुकीली मूंछ, पान चबाने का अंदाज और उसका ‘न्यौछावर कर दो’ तकियाकलाम का इस्तेमाल करना। उसकी ये बातें दर्शकों को काफी पसंद हैं। कई बार लोग मुझे योगेश की जगह हप्पू कहकर पुकारते हैं। और इसका श्रेय इस शो को जाता है कि उन्हें यह इतना पसंद है और वे इस किरदार को इतना चाहते हैं।

लॉकडाउन के दौरान मुझे अपने किरदार हप्पू सिंह की याद सता रही है। मुझे बेसब्री से शूटिंग के शुरू होने का इंतजार है। लेकिन तब तक के लिए मैं सबसे कहना चाहूंगा, ‘अरे दादा, हम तो तरस गए हैं मूंछें लगाने को!”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here