Home Agriculture लंपी संक्रमण ने बढ़ाई प्रदेश में पशुपालकों की चिंता, भाजपा ने प्रदेश...

लंपी संक्रमण ने बढ़ाई प्रदेश में पशुपालकों की चिंता, भाजपा ने प्रदेश सरकार को बताया लापरवाह

63
0
चूरू जिले में लंपी संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करते भाजपा नेता राजेंद्र राठौड़

The Angle

जयपुर।

भारत में आम आदमी पर जहां इन दिनों मंकीपॉक्स से संक्रमित होने का खतरा मंडरा रहा है, वहीं प्रदेश का पशुधन भी लंपी संक्रमण की चपेट में है। जानकारी के मुताबिक ये संक्रमण प्रदेश के 11 से ज्यादा जिलों में फैल चुका है और अब तक सैकड़ों पशुधन इसकी चपेट में आकर काल-कलवित हो चुके हैं। पशुधन में फैली इस महामारी को रोकने के लिए राज्य सरकार के प्रयासों को विपक्षी पार्टी भाजपा के नेता राजेंद्र राठौड़ ने नाकाफी बताते हुए सरकार के प्रति नाराजगी जताई।

लंपी संक्रमण की चपेट में आ चुका प्रदेश का 2 लाख से ज्यादा पशुधन- राजेंद्र राठौड़

चूरू में उन्होंने इसे लेकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। स्थानीय विधायक ने कहा कि पूरे राजस्थान के अंदर 11 जिलों से अधिक और लगभग 2 लाख से ज्यादा पशुधन लंपी रोग से संक्रमित हो चुका है, सरकारी आंकड़े चाहे कुछ भी हों, पर बड़ी संख्या के अंदर राजस्थान में पशुधन काल-कलवित हो रहा है। इस संक्रमण फैलने की जानकारी विभाग को 3 सप्ताह पहले थी, रोगी आने लग गए थे, पशु रोगी आने लग गए थे, सरकार की लापरवाही के कारण से इसमें किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की गई और इसके कारण धीरे-धीरे ये महामारी का रूप ले चुकी है।

चूरू जिले के अंदर जो कुल पशुधन संख्या है, वो राजस्थान के अंदर 3 तीसरे नंबर की है और आज लगभग 60 पर्सेंट से ज्यादा पशुधन सहायक, पशु चिकित्सक और प्राचार्य, इनके पद रिक्त पड़े हैं, दुर्भाग्य इस बात का है कि अब तक इस जिले के अंदर कोई टास्क फोर्स नहीं बनी, कोई विभाग ने मोबाइल टीमों का गठन नहीं किया और इसके बीच में लगातार पशुधन के काल-कलवित होने का समाचार आ रहा है।

पशुधन को संक्रमित होने से बचाने के लिए जरूरी इंजेक्शन का कोई प्रबंध नहीं- राठौड़

उन्होंने कहा कि चूरू जिले के अंदर 225 पंजीकृत गौशालाएं हैं, जिसमें 1 लाख से अधिक गौ पशुधन रह रहा है। इन गौशालाओं में अगर एक भी पशुधन लंपी संक्रमण की चपेट में आ गया, तो उस बाड़े में एक भी पशु संक्रमण से नहीं बच पाएगा। इसलिए लिए राज्य सरकार को जो लीवेमिसोल इंजेक्शन, जो संक्रमित हो गए हैं उनको और जो संक्रमित नहीं हुए हैं उनको बचाने के लिए गोट पॉक्स वैक्सीन का अभी तक कोई प्रबंधन नहीं है। सरकारी चिकित्सालय और निजी चिकित्सा विक्रेता उनके पास पूरी जानकारी के बाद भी आज गोट पॉक्स वैक्सीन के कुछेक ही वायल हैं, जहां पूर्णतः आम पशुधन आ रहा है, इस गोट पॉक्स वैक्सीन को खरीद नहीं पा रहा है।

राठौड़ बोले- लंपी संक्रमण के चलते प्रदेश में दूध का उत्पादन भी घटने की आशंका

राठौड़ ने कहा कि 3 सप्ताह से राजस्थान में, जिसमें देश का सर्वाधिक पशुधन है, जो किसानों की मेरुदंड है अर्थव्यवस्था में, उनको एक तरह से काल-कलवित होते हम देख रहे हैं। इससे पशुओं के शरीर पर गांठें पड़ जाती हैं, संक्रमण एक पशु से दूसरे पशु में तेजी से फैलता है, दूध की भी जहां दूध की भी आपूर्ति पर संकट आने की पूरी संभावनाएं हैं। इसलिए हम जिला कलेक्टर को ज्ञापन भी दे रहे हैं और उनको यह भी कह रहे हैं कि जो वैक्सीन हम उपलब्ध करवाएं, ये वैक्सीन हम कल से ही गौशालाओं में बांटना प्रारंभ करेंगे।

भाजपा नेता ने बताया कि चूरू विधानसभा क्षेत्र में अपने खुद के सामर्थ्य से, खुद के पैसों से, मित्रों के सहयोग से आज से इस मिशन की शुरुआत की जा रही है जिसके जरिए गौधन को लंपी महामारी से बचाने के लिए काम किया जाएगा। इसके तहत चूरू विधानसभा क्षेत्र की सभी गौशालाओं में जाकर वैक्सीन के वायल बांटे जाएंगे। एक वायल की कीमत करीब 900 रुपए होगी, जिसमें से 25 गायों का टीकाकरण किया जा सकेगा।

Previous articleकांग्रेस के विरोध प्रदर्शन पर भाजपा नेताओं का पलटवार, हल्ला बोल को बताया नौटंकी
Next articleउप राष्ट्रपति पद का कौन होगा विजेता, जगदीप धनखड़ या मार्गरेट अल्वा ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here