Home National विजयदशमी पर RSS चीफ मोहन भागवत ने कि शस्त्र पूजा, कहा- केवल...

विजयदशमी पर RSS चीफ मोहन भागवत ने कि शस्त्र पूजा, कहा- केवल कॉलेजों से संस्कार नहीं मिलते

38
0

द एंगल

मुंबई.

विजयदशमी के मौके पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने नागपुर में रैली का आयोजन किया। यह पहला मौका है जब RSS  ने किसी महिला को एवरेस्ट विजेता पद्मश्री संतोष यादव को अपने विजयादशमी समारोह का मुख्य अतिथि बनाया। दशहरा समारोह में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, महाराष्ट्र के डिप्टी CM देवेंद्र फडणवीस, सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत मौजूद रहें।

एक भ्रम है कि अंग्रेजी से रोजगार मिलता है- मोहन भागवत 

संतोष यादव ने सरसंघचालक मोहन भागवत के साथ पूजा-अर्चना की। RSS प्रमुख मोहन भागवत ने विजयादशमी उत्सव के मौके पर नागपुर के रेशमीबाग में आज संघ कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। मोहन भागवत ने इस दौरान कई मुद्दों पर अपनी बात रखी। मोहन भागवत ने अपनी स्पीच में कहा कि सामाजिक आयोजनों में, जनमाध्यमों के द्वारा, नेताओं के द्वारा संस्कार मिलते हैं। केवल कॉलेजों से संस्कार नहीं मिलते हैं। केवल स्कूली शिक्षा पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। सबसे ज्यादा प्रभाव घर के वातावरण, समाज के वातावरण का होता है। नई शिक्षा नीति की बहुत बातें हो रही हैं, लेकिन क्या हम अपनी भाषा में पढ़ना चाहते हैं? एक भ्रम है कि अंग्रेजी से रोजगार मिलता है। ऐसा नहीं है।

विश्व में भारत का सम्मान बढ़ा है- भागवत 

जिस तरीके से भारत ने श्रीलंका की मदद की। रूस और यूक्रेन के युद्ध में अपना हित रखा।  इन्हें देखते हुए आज विश्व में भारत का सम्मान बढ़ा है। दुनिया में हमारे देश की बात सुनी जा रही है। राष्ट्र सुरक्षा के मामले में भारत स्वावलंबी हो रहा है। कोरोना से बाहर आने के बाद अर्थव्यवस्था पूर्व स्थिति में आ रही है। खेल के क्षेत्र में भी खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। दिल्ली में कर्तव्य पथ का लोकार्पण हुआ, उस समय प्रधानमंत्री ने भारत के नव उत्थान की बात की और देश के नव उत्थान के हर क्षेत्र में भारत आगे बढ़ रहा है। 

जो काम महिलाएं कर सकती हैं, वो सब काम पुरुष नहीं कर सकते- भागवत 

आरएसएस के कार्यक्रम में महिलाओं की भागीदारी डॉक्टर साहब  के वक्त से ही हो रही है। अनसुइया काले से लेकर कई महिलाओं ने आरएसएस के कार्यक्रमों में हिस्सेदारी ली। वैसे भी हम आधी आबादी को सम्मान और उचित भागीदारी तो देनी ही होगी। उन्होंने कहा, ‘जो काम पुरुष कर सकता है, वो सब काम मातृशक्ति भी कर सकती है। लेकिन जो काम महिलाएं कर सकती हैं, वो सब काम पुरुष नहीं कर सकते।’ उन्होंने कहा कि महिलाओं के बिना समाज की पूर्ण शक्ति सामने नहीं आएगी।

Previous articleउत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में हुई बस हादसे में 25 की मौत, 21 घायल
Next articleउदयपुर हनी ट्रैप के मामले में तीन की गिरफ्तारी, व्यापारियों को ब्लैकमेल कर वसूलता था पैसे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here