Home International कालापानी पर बातचीत को बेताब हुआ नेपाल, भारत बोला- पहले विश्वास तो...

कालापानी पर बातचीत को बेताब हुआ नेपाल, भारत बोला- पहले विश्वास तो जीतो

147
0

द एंगल।

नई दिल्ली।

अपने नक्शे में बदलाव करके भले ही नेपाल कागज़ी तौर पर भारत के कुछ हिस्सों को अपना होने का दावा कर चुका हो, लेकिन इस नए नक्शे को वह अभी तक अपने ही देश की संसद में मंजूरी नहीं दिला सका है। इससे उसका सपना टूट चुका है और अब वह एक बार फिर से भारत से बातचीत करने को बेताब है। लेकिन भारत ने भी साफ कर दिया है कि इस पूरे प्रकरण से दोनों देशों के बीच आपसी विश्वास को लेकर संकट पैदा हो गया है। ऐसे में नेपाल को पहले उसका भरोसा जीतना होगा। उसके बाद ही आगे कोई बातचीत की जा सकेगी।

पहले विश्वास जीते नेपाल, फिर होगी बात- विदेश मंत्रालय

नेपाल कालापानी सीमा के मुद्दे पर विदेश सचिव स्तर की बातचीत पर जोर दे रहा है, साथ ही नए नक्शे को मंजूरी दिलाने के लिए संविधान में संशोधन की भी कोशिश कर रहा है। लेकिन भारत का कहना है कि बातचीत के लिए नेपाल को पहले विश्वास और भरोसे का माहौल तैयार करना होगा।

संसद में पेश नहीं हो पाया है बिल

नेपाल में के पी ओली सरकार नए नक्शे को मंजूरी दिलाने के लिए अब तक संसद में विधेयक पेश नहीं कर पाई है। नेपाल की मुख्य विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस ने इस पर और समय की मांग की है, जबकि मधेशी समुदाय ने मांग की है कि प्रस्तावित संशोधन में उनकी मांगों का भी समाधान किया जाए।

भारत – नेपाल के बीच बातचीत लगातार जारी

इस मसले पर भारत का कहना है कि नेपाल में इस मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है और उसने इस बात को नोटिस किया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, India अपने सभी पड़ोसियों के साथ भरोसे और विश्वास के माहौल में परस्पर सम्मान की भावना के साथ बात करने को तैयार है। यह एक सतत् प्रकिया है और इसके लिए रचनात्मक और सकारात्मक प्रयासों की जरूरत है। Bharat का कहना है कि नेपाल के साथ लगातार बातचीत जारी है।

नेपाल के राजदूत से मिल चुके हैं विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला

विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला पहले ही दो बार नेपाल के राजदूत नीलांबर आचार्य से मिल चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक विदेश मंत्रालय में नेपाल के मामलों को देख रहे संयुक्त सचिव (नॉर्थ) पीयूष श्रीवास्तव भी कई बार आचार्य से मिल चुके हैं और लगातार उनके संपर्क में हैं। इससे पहले नेपाल के मीडिया में खबर आई थी कि वरिष्ठ भारतीय अधिकारी नेपाल के राजदूत को कोई तवज्जो नहीं दे रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन के बाद से ही कालापानी पर बातचीत पर जोर दे रहा नेपाल

उल्लेखनीय है कि India ने जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन के बाद पिछले साल नवंबर में नया नक्शा जारी किया था। नेपाल तभी से कालापानी के बारे में बातचीत पर जोर दे रहा है। वह सीमा विवाद को सुलझाने के लिए विदेश सचिव स्तर की बातचीत को एक्टिवेट करना चाहता है। नक्शे में बदलाव के मुद्दे पर नेपाली कांग्रेस की केंद्रीय कार्यकारी समिति की शनिवार को बैठक होगी। हालांकि पार्टी ने नए नक्शे के मुद्दे पर पहले सरकार का समर्थन किया था।

नेपाल संबंधों को अहमियत देता है भारत- विदेश मंत्रालय

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि वह नेपाल के साथ गहरे ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और दोस्ताना संबंधों को बहुत अहमियत देता है। श्रीवास्तव ने कहा, कोविड-19 महामारी के इस चुनौतीपूर्ण दौर में भी India ने नेपाल को दवा सहित सभी तरह की जरूरी सामान की निर्बाध आपूर्ति जारी रखी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here