Home National अब यूपी में भी कमिश्नरेट सिस्टम

अब यूपी में भी कमिश्नरेट सिस्टम

12
0

The Angle

जयपुर।

अब यूपी में भी कमिश्नरेट प्रणाली लागू होगी। लखनऊ और नोएडा में कमिश्नरेट प्रणाली लागू किए जाने को सोमवार को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में यूपी कैबिनेट की बैठक में इसे मंजूरी दी गई। लखनऊ में सुजीत पांडेय की कमिश्नर पद पर तैनाती की गई है। वहीं, आलोक सिंह नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर नियुक्त किए गए हैं। वर्तमान में देश के 15 राज्यों के 71 शहरों में पहले से ही कमिश्नरेट प्रणाली लागू है। यूपी में सीएम योगी के सत्ता संभालने के बाद इस सिस्टम के लिए कवायद शुरू तो हुई थी, लेकिन नौकरशाही के दबाव के चलते बात अंजाम तक नहीं पहुंच पाई थी।

 

कमिश्नरेट सिस्टम यूपी में होगा लागू, सीएम योगी ने दी जानकारी

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ’50 वर्षों में पुलिस सुधार का सबसे बड़ा कदम उठाया है। लखनऊ और नोएडा में हम पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू कर रहे हैं। समय- समय पर विशेषज्ञों ने सुझाव दिए थे, लेकिन कार्रवाई न होने से न्यायपालिका सरकारों को कटघरे में खड़ा करती थी। पुलिस एक्ट में भी 10 लाख से ऊपर की आबादी पर कमिश्नर प्रणाली लागू करने की बात है, लेकिन राजनीतिक इच्छा शक्ति न होने के चलते ऐसा न हो सका। हमारी सरकार ने इस प्रणाली को स्वीकृति दी है।’

 

महिला सुरक्षा के लिए महिला आईपीएस की तैनाती

सीएम योगी ने कहा, ‘लखनऊ की आबादी आज करीब 40 लाख है और नोएडा में 25 लाख से अधिक आबादी है। ऐसे में महिला सुरक्षा के लिए महिला आईपीएस की तैनाती की जा रही है। उसके साथ एक महिला एएसपी की भी तैनाती होगी। इसके अलावा नोएडा में दो नए थाने बनाए जाएंगे।’

 

अधिकारी बोले, ‘नए सिस्टम से खत्म होगा डीएम-जनता संवाद’

उधर, नोएडा और लखनऊ में पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम में पुलिस के अधिकार को लेकर बहस शुरू हो गई है। नए सिस्टम से शहरों में कानून व्यवस्था दुरुस्त होने के दावे से रिटायर्ड आईएएस अधिकारी इत्तेफाक नहीं रखते। उनका तर्क है कि नए सिस्टम से आम लोगों का जो संवाद डीएम के माध्यम से प्रशासन से होता है, वह नहीं हो सकेगा।

 

रिटायर्ड अधिकारियों ने वर्तमान व्यवस्था को बताया बेहतर

उधर पूर्व अधिकारियों ने वर्तमान व्यवस्था को ही बेहतर बताया है। उन्होंने डीएम-एसएसपी व्यवस्था का समर्थन करते हुए कहा, डीएम-एसएसपी का सिस्टम सबसे अच्छा है। ऐसे में नए सिस्टम का कोई औचित्य नहीं है। वहीं, राजस्व और उसकी वसूली से जुड़े अधिकार पुलिस कमिश्नर को न दिए जाने की चर्चा के बीच पूर्व पुलिस प्रमुखों का कहना है, कि सिर्फ नाम के लिए कमिश्नर बैठाए जाने से कुछ नहीं होगा। उनके मुताबिक, पूरे अधिकार मिलें, तभी नया सिस्टम असरदार साबित होगा

 

‘मौजूदा व्यवस्था ज्यादा बेहतर’

यूपी के पूर्व मुख्य सचिव योगेंद्र नारायण के मुताबिक, अगर पुलिस के स्तर से कोई गड़बड़ी होती है तो डीएम से संवाद किया जाता है। मगर नई व्यवस्था के लागू होने से यह संवाद खत्म हो जाएगा। मौजूदा व्यवस्था ज्यादा बेहतर है। जिन शहरों में कमिश्नर सिस्टम लागू है, वहां इसके अच्छे परिणाम नहीं हैं। दिल्ली इसका हालिया उदाहरण है। वहीं, पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन ने कहा, कि डीएम-एसएसपी की व्यवस्था में चेक एण्ड बैलेंस होता है। अगर पुलिस कोई गड़बड़ी करती है, तो इसकी शिकायत डीएम से होती है। वर्तमान व्यवस्था में कोई कमी नहीं है। क्राइम कंट्रोल के मामले में डीएम का कोई हस्तक्षेप नहीं होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here