Home National पिनराई विजयन ने बाबरी मस्जिद विध्वंस के लिए कांग्रेस को बताया जिम्मेदार,...

पिनराई विजयन ने बाबरी मस्जिद विध्वंस के लिए कांग्रेस को बताया जिम्मेदार, कहा- कांग्रेस ने अपनाई नरम हिंदुत्व की रणनीति

127
0

द एंगल।

तिरुअनंतपुरम।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए भूमिपूजन का स्वागत किया। इस पर केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Priyanka Gandhi) कहा है कि मुझे प्रियंका के बयान पर आश्चर्य नहीं है। उन्होंने कहा, ‘हम जानते हैं कि हर समय कांग्रेस का क्या रुख था। राजीव गांधी और नरसिम्हा राव का रुख क्या था।’

पिनराई विजयन ने पूछे राममंदिर को लेकर महत्वपूर्ण सवाल

पिनराई विजयन ने कहा, “अगर कांग्रेस की धर्मनिरपेक्षता की अवधारणा स्पष्ट होती, तो यह स्थिति भारत के लिए नहीं आई होती। नरम हिंदुत्व वह रणनीति है, जो कांग्रेस ने हमेशा अपनाई।” उन्होंने कहा कि जब संघ परिवार ने बाबरी मस्जिद का विध्वंस किया, तब कांग्रेस ने अपनी आंखें मूंद ली थीं। जब यह सब हो रहा था, तब मुस्लिम लीग तक कांग्रेस के साथ थी। सीएम विजयन ने सवाल किया कि बाबरी मस्जिद में पूजा की अनुमति किसने दी थी। वह कांग्रेस थी। किसने वहां मूर्ति लगाने की अनुमति दी ? वह भी कांग्रेस की सरकार थी। उन्होंने कहा कि इन सबसे ऊपर जब संघ परिवार ने इसे गिराने के लिए बाबरी मस्जिद का रुख किया, जिसने इसकी ओर से आंखें फेर ली थीं, वे कांग्रेस के पीएम नरसिम्हा राव थे।

प्रियंका के बयान से नाराज IUML

वहीं केरल में कांग्रेस नीत UDF के दूसरे सबसे बड़े घटक दल इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) ने प्रियंका गांधी द्वारा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन का स्वागत करने पर अपनी नाराजगी जताई। अयोध्या समारोह का प्रियंका सहित कांग्रेस के कई नेताओं द्वारा समर्थन करने के मद्देनजर पार्टी के प्रमुख नेताओं की एक आपातकालीन बैठक हुई। बैठक के बाद IUML के वरिष्ठ नेता और सांसद पी. के. कुनहलिकुट्टी ने मीडिया को बताया कि उन्होंने प्रियंका गांधी के बयान के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया है। उन्होंने कहा, “हमने अयोध्या मंदिर के निर्माण पर प्रियंका गांधी के बयान पर अपनी नाराजगी व्यक्त की।”

बता दें प्रियंका गांधी राममंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम से एक दिन पहले एक बयान जारी कर कहा था, “भगवान राम के आशीर्वाद और उनकी शिक्षाओं के साथ यह कार्यक्रम, राष्ट्रीय एकता, भाईचारे और सांस्कृतिक समागम का प्रतीक बनना चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here