Home International Health प्रियंका गांधी की अपील- ‘ये समय योद्धाओं के साथ अन्याय करने की...

प्रियंका गांधी की अपील- ‘ये समय योद्धाओं के साथ अन्याय करने की बजाय उनकी बात सुनने का’

118
0

द एंगल।

नई दिल्ली।

कोरोना संकट के बीच गाजियाबाद के एक अस्पताल में स्वास्थ्यकर्मियों के साथ बदसलूकी करने के आरोप में तब्लीगी जमात से जुड़े छह लोगों के खिलाफ यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए हैं। इन सभी पर रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून ) के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। इससे पहले सीएम योगी ने स्वास्थ्य कर्मियों से बदसलूकी करने वालों को इंसानियत का दुश्मन बताया था।

प्रियंका ने शेयर किया मेडिकल स्टाफ की छात्रा का वीडियो

अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के बांदा राजकीय मेडिकल कॉलेज में आउटसोर्सिंग पर तैनात मेडिकल स्टाफ के काम पर तैनात छात्रा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है। छात्रा कोरोनावायरस के इलाज के लिए बने आइसोलेशन सेंटर में तैनात है। उसका कहना है कि अस्पताल प्रशासन ने सेनेटाइजर और मास्क की मांग करने पर उन्हें टर्मिनेट कर दिया गया है। छात्रा का आरोप है कि अस्पताल प्रशासन की ओर से उनकी सैलरी भी बिना बताए काट दी गई है। छात्रा ने यह भी आरोप लगाया कि उन लोगों से कहा गया,’यहां से चले जाओ नहीं तो हाथ पैर तुड़वाया दूंगा… योगी जी का आदेश आया है आप लोगों को निकालने का’…

प्रियंका बोलीं- ‘स्वास्थ्यकर्मी योद्धा की तरह मैदान में’

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इस वीडियो को शेयर करते हुए योगी सरकार से अपील की है। प्रियंका ने कहा कि इस समय हमारे मेडिकल स्टाफ को सबसे ज्यादा सहयोग करने की जरूरत है। वे जीवनदाता हैं और योद्धा की तरह मैदान में हैं। बांदा में नर्सों और मेडिकल स्टाफ को उनकी निजी सुरक्षा के उपकरण न देकर और उनके वेतन काट करके बहुत बड़ा अन्याय किया जा रहा है। प्रियंका ने कहा, ‘यूपी सरकार से मैं अपील करती हूँ कि ये समय इन योद्धाओं के साथ अन्याय करने का नहीं है, बल्कि उनकी बात सुनने का है।’

कई जगहों से सुरक्षा किट की कमी की बात आई सामने

बता दें कि सुरक्षा किट को लेकर कई जगहों पर डॉक्टर, नर्स और मेडिकल स्टाफ मांग कर रहे हैं लेकिन हर ओर से इनकी कमी की बातें सामने आ रही हैं। वहीं डॉक्टर्स का कहना है कि जो मास्क दिए जा रहे हैं वो ऐसे हैं जिनसे साधारण वायरस भी रोका नहीं जा सकता है। इसी तरह की मांग दिल्ली स्थित एम्स के डॉक्टर भी कर रहे हैं। ऐसे में कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच अस्पतालों में तैनात स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल उठ रहा है।

मुम्बई में कल सामने आए मामलों में 11 सीआईएसएफ के जवान भी

उल्लेखनीय है महाराष्ट्र के मुम्बई में कल सामने आए 53 कोरोनो संक्रमित मरीजों के मामलों में केन्‍द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल-सीआईएसएफ के ग्‍यारह जवान भी शामिल हैं। आशंका जताई जा रही है कि ये लोग मुम्बई हवाई अड्डे पर डूयूटी के दौरान संक्रमित हो गए। इसका मतलब है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जो विभिन्न कर्मचारी और स्वास्थ्य चिकित्सा कर्मी अपनी सेवाएं दे रहे हैं, उनकी सुरक्षा के पर्याप्त इंतज़ाम नहीं किए गए हैं। ऐसे में उन्हें भी कोरोना संक्रमण की चपेट में आने का खतरा बना हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here