Home National रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आतंकवाद और कट्टरता को दुनिया में शांति...

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आतंकवाद और कट्टरता को दुनिया में शांति और सुरक्षा के लिए माना गंभीर खतरा

23
0
आसियान डिफेंस मीनिस्टर्स मीटिंग- प्लस में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हुए शामिल

The Angle
नई दिल्ली।
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज आसियान डिफेंस मीनिस्टर्स मीटिंग- प्लस में वर्चुअली शामिल हुए। मीटिंग में संबोधित करते हुए उन्होनें आतंकवाद और कट्टरता को दुनिया में शांति और सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा माना। उन्होने कहा की इन चुनौतियों से निपटने के लिए सामूहिक दृष्टिकोण की आवश्यकता है।

भारत आतंकवाद के बारे में वैश्विक चिंताएं करता है साझा- राजनाथ सिंह

इसके साथ ही मीटिंग में रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत आतंकवाद के बारे में वैश्विक चिंताएं साझा करता है और यह मानता है कि जब आतंकवादियों के बीच गठजोड़ चिंताजनक स्थिति तक पहुंच रहा है तो केवल सामूहिक सहयोग से ही आतंकी संगठन और उनके नेटवर्कों को पूरी तरह ध्वस्त किया जा सकता है, दोषियों की पहचान की जा सकती है और उन्हें जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

साइबर खतरे चिंता का विषय

राजनाथ सिंह ने कहा की एक बहु-हितधारक दृष्टिकोण, लोकतांत्रिक मूल्यों द्वारा निर्देशित, एक शासन संरचना के साथ जो खुला और समावेशी है और देशों की संप्रभुता के लिए एक सुरक्षित, खुला और स्थिर इंटरनेट है, साइबरस्पेस के भविष्य को संचालित करेगा। रैंसमवेयर, वानाक्राई हमलों और क्रिप्टो करेंसी की चोरी की घटनाओं के रूप में साइबर खतरे बड़े पैमाने पर प्रदर्शित होते हैं और चिंता का कारण हैं।

उन्होने कहा की भारत को उम्मीद है कि आचार संहिता की वार्ता से ऐसे परिणाम निकलेंगे जो यूएनसीएलओएस सहित अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुरूप होंगे और उन देशों के वैध अधिकारों और हितों पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं डालेंगे जो इन चर्चाओं में पक्ष नहीं हैं। दक्षिण चीन सागर के विकास ने इस क्षेत्र और उसके बाहर ध्यान आकर्षित किया है। भारत इन अंतरराष्ट्रीय जलमार्गों में नेविगेशन, ओवर फ्लाइट और अबाध वाणिज्य की स्वतंत्रता का समर्थन करता है।

Previous articleकांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा की प्रेस वार्ता, भाजपा और RSS पर जमकर बोला हमला
Next articleप्रदेश में घटी कोरोना टेस्टिंग की दर, भाजपा हुई राज्य सरकार पर हमलावर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here