Home Business महंगे पेट्रोल-डीजल से मिलेगी राहत, साथ ही होगी 30 से 50 हजार...

महंगे पेट्रोल-डीजल से मिलेगी राहत, साथ ही होगी 30 से 50 हजार रुपए की बचत भी, राजस्थान सरकार लाई स्कीम

73
0
राजस्थान में अब इलेक्ट्रिक कार खरीदने पर होगी 30 से 50 हजार रुपए की बचत

The Angle

जयपुर।

एक तरफ जहां पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान पर जा पहुंचे हैं और 100 रुपए के पार बने हुए हैं, वहीं दूसरी ओर लगाता बढ़ते प्रदूषण का असर प्रकृति पर भी साफ तौर पर नजर आने लगा है। हाल ही में राजस्थान में करीब 36 साल बाद हुई इतनी जोरदार बारिश के लिए भी इसी ग्लोबल वार्मिंग को ही बड़ा कारक माना जा रहा है। ऐसे में चाहे केंद्र हो या राज्य, तमाम सरकारें इसके विकल्प तलाश कर रही हैं, ताकि जनता और प्रकृति को सुकून पहुंचाया जा सके।

इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी को लेकर विभाग ने जारी किया गजट नोटिफिकेशन

ऐसे दौर में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स उपभोक्ताओं के सामने एक बेहतर विकल्प साबित हो सकते हैं। भारत में धीरे-धीरे ही सही इसका चलन बढ़ भी रहा है और केंद्र और राज्य सरकारें इन्हें बढ़ावा देने की भी कोशिश कर रही हैं। इसी कड़ी में राजस्थान में भी परिवहन विभाग ने इलेक्ट्रिकल व्हीकल पॉलिसी को लेकर गजट नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसके बाद प्रदेशवासियों को इलेक्ट्रिकल कार खरीदने पर 30 से 50 हजार रुपए तक की बचत होगी। संयुक्त परिवहन आयुक्त नानूराम चोयल ने बताया कि पॉलिसी लागू होने से प्रदेश में इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहन मिलेगा।

इलेक्ट्रिक कार पर मिल रही 30 से 50 हजार रुपए की छूट से मिलेगा बढ़ावा

हालांकि प्रदेश में फिलहाल उतनी संख्या में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के लिए चार्जिंग स्टेशन्स अवेलेबल नहीं हैं, लोगों में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के पॉपुलर नहीं होने के पीछे एक वजह ये भी है। लेकिन उम्मीद की जानी चाहिए कि आगामी त्यौहारी सीजन से पहले राज्य सरकार की ओर से जारी की गई इस नई पॉलिसी के तहत मिल रही 30 से 50 हजार रुपए की छूट का फायदा हर कोई उठाना चाहेगा और इससे इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को बढ़ावा मिलेगा।

प्रदेश में जल्द ही चलेंगी इलेक्ट्रिक बसें

इसके साथ ही ये भी बता दें कि राज्य सरकार जल्द ही प्रदेश में इलेक्ट्रिक बसें चलाने पर भी विचार कर रही है। हालांकि ये मामला लंबे समय से चल रहा है, लेकिन अब कहा जा रहा है सरकार इसके लिए प्रदेश में चार्जिंग स्टेशन्स स्थापित करने के लिए काम करने जा रही है, ताकि प्रदेश में भी इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को लेकर एक सकारात्मक माहौल तैयार किया जा सके। हाल ही में मुख्यमंत्री गहलोत ने भी ग्लोबल वॉर्मिंग को लेकर चिंता जाहिर करते हुए इसे नियंत्रित करने के उपाय अपनाने पर बात की थी।

Previous articleसीएम गहलोत प्रदेश को देंगे 100 से ज्यादा सड़क परियोजनाओं की सौगात, राज्य में निवेश बढ़ाने में मिलेगी मदद
Next articleएक बार फिर स्पाइसजेट की फ्लाइट्स में गडबडीं, करानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here