Home Sports सचिन और विश्वनाथन हटाए गए खेल समिति से

सचिन और विश्वनाथन हटाए गए खेल समिति से

45
0

दा एंगल।
मुंबई।
क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंडुलकर को एक बड़ा झटका लगा है। केन्द्र सरकार ने उनको अपनी खेल समिति से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। हाल ही में केन्द्र सरकार ने खेल समिति का गठन किया है। जिसमें सचिन तेंदुलकर को जगह नहीं मिली है। इसके साथ ही शतरंज के बेताज बादशाह विश्वनाथन आनंद को भी खेल समिति में जगह नहीं मिली है।

बैठकों से रहते हैं नदारद

दरअसल, खेल समिति का गठन खेलों के विकास के लिए किया गया था। इन समिति में इन दिग्गजों को शामिल करने का मकसद भारत में खेलों का विकास इन दोनों दिग्गजों को खेल समिति में जगह नहीं मिलने का इनका बैठकों में ना आना माना जा रहा है। मोदी सरकार ने दोनों दिग्गजों को दिसंबर 2015 में गठित की गई ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ स्पोर्ट्स से बाहर किया है। केंद्र सरकार को देश में खेल के विकास से जुड़े मामलों पर सलाह देने के लिए इस परिषद का गठन किया गया था।
नए सदस्यों के तौर पर क्रिकेटर हरभजन सिंह और के. श्रीकांत को जगह दी गई है। तत्कालीन खेल मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने दिसंबर 2015 में इसका गठन किया था। दिसंबर 2015 से मई 2019 तक कमेटी के पहले कार्यकाल में सचिन तेंडुलकर को राज्यसभा सांसद और आनंद को प्लेयर के तौर पर जगह दी गई थी।

कमेटी के सदस्यों में कटौती

अब इस कमेटी में सदस्यों की संख्या में भी कमी की गई है। पहले जहां इसमें 27 सदस्य होते थे उसको घटाकर अब 18 कर दी गई है। सचिन और आनंद के अलावा बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद और पूर्व फुटबॉल कप्चान बाइचुंग भूटिया को भी बाहर कर दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक कमेटी की मीटिंगों में सचिन और आनंद के न पहुंचने के चलते यह फैसला लिया गया।
गोपीचंद को कमिटी से हटाने के पीछे उनकी व्यस्तता को कारण बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि गोपीचंद तोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों में व्यस्त हैं, जिसके चलते उन्हें कमिटी में शामिल नहीं किया गया है।

नए सदस्य हुए शामिल

खेल मामलों की इस समिति में नए सदस्यों के तौर पर तीरंदाज लिम्बा राम, पी.टी ऊषा, बछेंद्री पाल, पैरालिंपिक दीपा मलिक, शूटर अंजलि भागवत, रेनेडी सिंह और पहलवान योगेश्वर दत्त को शामिल किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here