Home Crime 25 हजार रुपए की रिश्वत लेते हैरिटेज निगम का वरिष्ठ सहायक ट्रैप,...

25 हजार रुपए की रिश्वत लेते हैरिटेज निगम का वरिष्ठ सहायक ट्रैप, एसीबी ने जयपुर में की कार्रवाई

21
0
25 हजार रुपए की रिश्वत लेते हैरिटेज निगम का वरिष्ठ सहायक ट्रैप

The Angle

जयपुर।

जयपुर नगर निगम हैरिटेज के आदर्श नगर कार्यालय में तैनात वरिष्ठ सहायक को एसीबी ने 25 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए ट्रेप किया। आरोपी वरिष्ठ सहायक मेघराज चावरिया पेंशन पास करने की एवज में पीड़ित से पैसा मांग रहा था। पीड़ित परेशान होकर एसीबी मुख्यालय पहुंचा, जहां पर एडीजी दिनेश एमएन को पीड़ित ने सारी बात बताई। इस पर एसीबी ने शिकायत का सत्यापान कराया और आज ट्रेप की की कार्रवाई की गई।

एसीबी ने आरोपी को रंगे हाथ किया ट्रैप, रिश्वत की राशि भी की बरामद

एडीजी एसीबी दिनेश एमएन ने बताया कि आरोपी मेघराज निगम में वरिष्ठ सहायक के पद पर तैनात है। वह पीड़ित की पेंशन पास करने की एवज में पैसा मांग रहा था। पीड़ित कई बार आरोपी से गुहार लगा चुका था, लेकिन उसके बाद भी वह डिमांड कर रहा था। इस सम्बंध में पीड़ित की ओर से निगम सीईओ को भी लिखित में जानकारी दी गई, लेकिन निगम सीईओ ने इस सम्बंध में कोई एक्शन नहीं लिया। इस पर पीड़ित परेशान होकर एसीबी मुख्यालय आया और अपने साथ हो रही घटना की जानकारी दी।

रिश्वत की डिमांड और मांग को लेकर एसीबी मुख्यालय ने पहले सत्यापान कराई, फिर आज एएसपी हिमांशु कुलदीप को ट्रैप के आदेश दिए। जिस पर आज आरोपी को कार्यालय में ट्रेप किया गया। आरोपी के पास से रिश्वत की राशि के 25 हजार रुपए भी बरामद कर लिए हैं। एसीबी आरोपी मेघराज चावरिया के आवास और अन्य ठिकानों पर सर्च कर रही है।

पेंशन के लिए निगम कार्यालय में चक्कर लगा रही थी महिला, 2021 में हुई मौत

एडिशनल एसपी हिमांशु ने बताया कि पेंशन लेने वाली महिला की वर्ष 2021 में मौत हो गई। वह जयपुर नगर निगम में सफाई कर्मचारी के पद पर तैनात थी। वर्ष 2018 में महिला सेवानिवृत्त हुई थी। इसके बाद से वह पेंशन के लिए निगम कार्यालय में चक्कर लगाती रही, लेकिन उसकी पेंशन जारी नहीं की गई। हर बार कोई न कोई अडंगा लगाकर उसका काम रोक दिया जाता था। वर्ष 2021 में महिला की मौत हो गई। वर्ष 2018 से वर्ष 2021 तक पेंशन और रिटायरमेंट लाभ लेने के लिए मृतका का बेटा चक्कर काट रहा था। उससे भी आरोपी ने फाइल आगे बढ़ाने के लिए रिश्वत की मांग की, लेकिन पीड़ित ने एसीबी में शिकायत कर दी। इसके बाद एसीबी ने ट्रेप की कार्रवाई को अंजाम दिया।

Previous articleसर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांगने पर राहुल गांधी ने भी झाड़ा पल्ला, बयान को बताया निजी राय
Next articleपेपर लीक मामले की सीबीआई से जांच नहीं करवाएगी सरकार, मंत्री शांति धारीवाल ने सदन में स्पष्ट की स्थिति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here