Home Rajasthan अपने वतन लौटे तो खिल उठे विदेश से लौटे प्रवासी राजस्थानियों के...

अपने वतन लौटे तो खिल उठे विदेश से लौटे प्रवासी राजस्थानियों के चेहरे

137
0

द एंगल।

जयपुर।

कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन की वजह से विदेशों में फंसे राजस्थानियों को लेकर आज पहली फ्लाइट जयपुर पहुंच गई। वंदे भारत मिशन के तहत यह फ्लाइट आई है। इसमें अधिकांश स्टूडेंट और व्यापारी हैं। पहली फ्लाइट आज लंदन से आई, इसमें 148 यात्री और उनके साथ एक छोटा बच्चा आया। अब 1 जून तक 14 फ्लाइट आएंगी। अपने वतन लौटने की खुशी और राहत इन यात्रियों के चेहरे पर साफ दिखी। हालांकि वे अपने परिजनों से अभी नहीं मिल सकेंगे क्योंकि यहां से उन्हें सीधा क्वारंन्टाइन सेंटर भेजा गया है।

पेरेन्ट्स ने घर ले जाने की मांगी अनुमति

वहीं इस विमान से लंदन से लौटे कई प्रवासी राजस्थानियों के अभिभावक भी एयरपोर्ट पहुंचे और उन्होंने अपने बच्चों को अपने साथ घर ले जाने की अनुमति मांगी और बच्चों को होम क्वारंटाइन करने की बात कही। लेकिन अभी उन्हें अनुमति नहीं दी गई है। इनसे पहले ही क्वारंटाइन होने के लिए अनुमति पत्र भरवाया गया है। सभी यात्रियों की एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग भी की गई। इसका पहले ट्रायल रन भी किया गया। राजस्थान के 4 अन्य शहरों में भी राजस्थानियों के आने की शुरुआत हो रही है, इसमें जयपुर के अलावा जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर और जैसलमेर एयरपोर्ट को चिन्हित किया गया है।

क्वारंटाइन के लिए एयरपोर्ट के पास ही की है 10 होटल्स की व्यवस्था

जयपुर एयरपोर्ट पर आज दोपहर सवा 2 बजे पहली फ्लाइट लंदन से आई। यह दिल्ली होते हुए जयपुर एयरपोर्ट पहुंची थी। इसमें 148 यात्री और उनके साथ एक छोटा बच्चा शामिल था। यात्रियों से पहले अंडर टेकिंग ली गई है कि उन्हें 14 दिन क्वारंटाइन रहना होगा। इसके लिए एयरपोर्ट के पास ही करीब 10 होटल्स में व्यवस्था की गई है। यात्री अपने स्वयं के खर्चे पर यहां क्वारंटाइन रहेंगे। इसके लिए तीन कैटेगरी तय की गई हैं। इन होटल्स में हाई, मीडियम और स्टैंडर्ड सेगमेंट तैयार किए गए हैं। होटल्स रोज की फ्लाइटस के अनुसार तय होंगे।

विदेशों से लौटने वाले सभी प्रवासियों को 14 दिन क्वारंटाइन होना अनिवार्य

विदेशों से आने वाले यात्रियों को अनिवार्य रूप से 14 दिन क्वारेंटाइन रखा जाएगा। 14 दिन के बाद जिन यात्रियों की रिपोर्ट नेगेटिव आएगी उन्हें घर भेज दिया जाएगा और जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव होगी उन्हें आगे इलाज के लिए भेजा जाएगा। रिपोर्ट नेगेटिव आने पर ही यात्री को पासपोर्ट वापस मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here