Home Arts फिर ऐतिहासिक पलों का साक्षी बना दरबार हॉल, राजस्थान का नाम भी...

फिर ऐतिहासिक पलों का साक्षी बना दरबार हॉल, राजस्थान का नाम भी खूब गूंजा

314
0
राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में दिए गए पद्म पुरस्कार

The Angle

नई दिल्ली।

राष्ट्रपति भवन का दरबार हॉल आज फिर से उन ऐतिहासिक पलों का साक्षी बना जब साल 2020 के लिए देश की कला और साहित्य क्षेत्र से जुड़ी नामी गिरामी हस्तियों को पद्म पुरस्कारों से अलंकृत किया गया। भारत रत्न के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म पुरस्कार आज प्रदान किए।

पद्म विभूषण पाने वाली 7 हस्तियों में से 5 को मरणोपरांत सम्मान

साल 2020 के लिए जिन लोगों को पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया, उनमें सार्वजनिक मामलों के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री बिहार के जार्ज फर्नाडीज (मरणोपरांत), दिल्ली के अरुण जेटली और सुषमा स्वराज (दोनों को मरणोपरांत), मॉरिशस के पूर्व राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री अनिरुद्ध जगन्नाथ (मरणोपरांत), कला के लिए उत्तर प्रदेश के पंडित छन्नूलाल मिश्र, खेल के लिए मणिपुर की मैरी काम और अध्यात्म के लिए कर्नाटक के उडुपी स्थित पेजावर मठ के श्री विश्वेशतीर्थ स्वामी (मरणोपरांत) शामिल हैं।

आनंद महिंद्रा, पीवी सिंधू और मनोहर पर्रिकर को पद्म भूषण

वहीं पद्म भूषण से सम्मानित होने वालों में जम्मू-कश्मीर के मुजफ्फर हुसैन बेग (सार्वजनिक मामले), उत्तराखंड के अनिल प्रकाश जोशी (सामाजिक कार्य), गुजरात के बालकृष्ण दोषी (आर्किटेक्चर), महाराष्ट्र के आनंद महिंद्रा (व्यापार एवं उद्योग), तेलंगाना की पीवी संधू (खेल), गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर (मरणोपरांत-सार्वजनिक मामले) और अमेरिका के जगदीश सेठ (साहित्य एवं शिक्षा) शामिल हैं।

राजस्थान की भी कई हस्तियों को किया गया सम्मानित

पद्म श्री पुरस्कार पाने वालों में राजस्थान के हिम्मत राम भांभू (सामाजिक कार्य), ऊषा चौमर (सामाजिक कार्य), उस्ताद अनवर खान मांगणियार (कला), मुन्ना मास्टर (कला), छत्तीसगढ़ के मदन सिंह चौहान (कला), मध्य प्रदेश के पुरुषोत्तम दधीच (कला), अब्दुल जब्बार (मरणोपरांत-सामाजिक कार्य), नेमनाथ जैन (व्यापार एवं उद्योग), डा. लीला जोशी (चिकित्सा), जम्मू-कश्मीर के शिव दत्त निर्मोही (साहित्य एवं शिक्षा), हिमाचल प्रदेश के प्रो. अभिराज राजेंद्र मिश्र (साहित्य एवं शिक्षा) और हरियाणा की रानी रामपाल (खेल) सहित कई अन्य हस्तियां शामिल हैं।

कोरोना महामारी के चलते पद्म पुरस्कार देने में हुई देरी

गौरतलब है कि पद्म पुरस्कारों की घोषणा हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर की जाती है। राष्ट्रपति मार्च-अप्रैल में ये पुरस्कार प्रदान करते हैं, लेकिन कोरोना के चलते पुरस्कार नहीं दिए जा सके और साल 2021 के लिए दिए जाने वाले पुरस्कारों के साथ ही दिए जा रहे हैं। बता दें साल 2021 के लिए पद्म पुरस्कार विजेताओं को कल मंगलवार को सम्मानित किया जाएगा।

Previous articleपंजाब में हुआ, अब राजस्थान में भी बंधी आस
Next article‘मैं थासूं दूर कोनी….’ कोरोना के बाद फिर ‘अपनों’ के बीच जाएंगे सीएम अशोक गहलोत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here