Home Business हमेशा के लिए बंद हो गया है ये बैंक, जल्द निकाल लें...

हमेशा के लिए बंद हो गया है ये बैंक, जल्द निकाल लें अपना जमा पैसा !

71
0

The Angle

जयपुर।

अगर आप भी ऑनलाइन पेमेंट करने या लेने के लिए पेमेंट बैंक का इस्तेमाल करते हैं तो ये खबर आपके लिए जानना बेहद जरूरी है। देश में बैंकिंग सेवाओं तक आसान पहुंच बनाने और घर-घर तक पहुंचाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने 2015 में इनकी शुरुआत की थी। इस बैंक के लाइसेंस के लिए देश की 41 कंपनियों की ओर से आवेदन किया गया था लेकिन आरबीआई ने सिर्फ 11 कंपनियों को ही इसके लिए लाइसेंस जारी किए थे। इन्‍हीं में से एक टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन के m-pesa का कामकाज बंद कर दिया गया है। लेकिन अगर आप भी वोडाफोन ग्राहक हैं और आपको आपके पैसे चले जाने की चिंता सता रही है तो अब इसके लिए परेशान होने की आपको बिल्कुल भी जरूरत नहीं है, क्योंकि वोडाफोन m-pesa के ग्राहक एक निश्चित अवधि तक अपने पेमेंट बैंक से अपने पैसे निकाल सकेंगे। ऐसे में आपको किसी तरह का नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा।

 

प्रीपेड भुगतान से जुड़े काम नहीं कर सकेगी वोडाफोन

दरअसल, वोडाफोन ने अपनी मर्जी से m-pesa को लिक्विडेट यानि बंद करने के लिए आवेदन दिया था। इसके बाद अब रिजर्व बैंक ने वोडाफोन m-pesa का आवेदन स्वीकार करते हुए, उसका आवंटित अधिकार प्रमाण-पत्र (Certificate Of Authorisation- COA) को रद्द कर दिया है। इसके बाद अब वोडाफोन कंपनी प्रीपेड भुगतान से जुड़े कार्य नहीं कर सकेगी। यानि इसके बाद आप m-pesa के ज़रिए ऑनलाइन पेमेंट का लेन-देन नहीं कर पाएंगे।

 

पेमेंट बैंक में ग्राहकों को 30 सितंबर, 2022 तक निपटाने होंगे सभी दावे

हालांकि, ग्राहकों या व्यापारियों का भुगतान प्रणाली परिचालक (Payment System Operator- PSO) के रूप में कंपनी पर कोई वैध दावा है, तो वे सीओए रद्द होने के 3 साल के अंदर यानि 30 सितंबर 2022 तक दावा कर सकते हैं। जाहिर सी बात है, ग्राहकों को इस डेडलाइन तक अपने सभी तरह के दावों को निपटा लेना होगा। बता दें पिछले साल आदित्य बिड़ला आइडिया पेमेंट बैंक लिमिटेड (ABIPBL) ने भी आरबीआई को लिक्‍विडेट करने के लिए आवेदन दिया था।

 

क्‍या है पेमेंट बैंक ?

दरअसल, पेमेंट बैंकों को लॉन्च करने का मकसद स्मॉल सेविंग अकाउंट होल्डर्स, लो इनकम हाउसहोल्ड (कम आय वाले परिवार), असंगठित क्षेत्र, प्रवासी मजदूरों और छोटे बिजनेसमेन को बैंकिंग सेवाओं से जोड़ना है। इसके लिए आरबीआई ने नॉन- बैंकिंग फाइनेंशियल कॉर्पोरेशन, मोबाइल फोन सेवा देने वाली कंपनियों या फिर सुपर मार्केट चेन आदि को इसे शुरू करने की छूट दी है। इन बैंकों को बड़ी रकम जमा के तौर पर स्वीकार करने की इजाज़त नहीं है। इसके अलावा इन बैंकों से अन्य सामान्य बैंकों की तरह लोन भी नहीं लिया जा सकता है। हालांकि इस तरह के बैंक एटीएम/डेबिट कार्ड जारी कर सकते हैं, लेकिन इन्हें क्रेडिट कार्ड जारी करने की इजाज़त नहीं है।

 

बचे रहेंगे ये पेमेंट बैंक

– एयरटेल लिमिटेड
– इंडिया पोस्‍ट लिमिटेड
– FINO लिमिटेड
– Paytm लिमिटेड
– Jio लिमिटेड
– NSDL लिमिटेड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here