Home International Culture Valentine Day Special- ऐसे करे अपने प्यार से अपनी राशि मैच

Valentine Day Special- ऐसे करे अपने प्यार से अपनी राशि मैच

42
0
मैच

द एंगल।

नई दिल्ली।

14 फरवरी यानी प्यार का दिन या कह लीजिये वैलेंटाइन डे। आज के दिन कुछ प्यार का इजहार करते है तो कुछ अपने प्यार के साथ समय बिताते है। ऐसे में अगर आप सितारों में विश्वास रखते है तो आप बिलकुल सही जगह आए है। यहां हम आपको बताएगे आपके आज के दिन के राशिफल के बारे में और क्या आपकी राशि होती है आपके चाहने वाले से मैच । तो चलिए देखते है आपकी राशि का मैच ।

अपने प्यार से करे अपनी राशि मैच

मेष
इस राशि का स्वामी मंगल है, जिसका रंग लाल है । इनकी सिंह राशि वालों के साथ अछि बनती है । चूंकि सिंह का स्वामी सूर्य है और सूर्य-मंगल मित्र ग्रह हैं तो जाहिर है इनके बीच मुहब्बत खूब रंग लाती है। साथ ही वृश्चिक राशि का स्वामी भी मंगल ही है अतः उनके साथ भी आपका प्यार का सफर अच्छा कटता है। मीन राशि का स्वामी बृहस्पति भी मेष राशि के स्वामी मंगल से मैत्री रखता है अतः मेष, सिंह और मीन राशि के जोड़े सफल प्रेमी बन जाते हैं।

वृष –

इस राशि का स्वामी शुक्र है । इस राशि के प्रेमी-प्रेमिका परस्पर प्यार तो बहुत करते हैं लेकिन उसका इजहार मुंह से कम ही कर पाते हैं। इसलिए कभी-कभी साथी उनके मन की भावना समझ नहीं पाता और तरह-तरह की शंकाओं से घिर जाता है। इस राशि की प्रेमिका प्यार में हद से गुजर जाने में कहीं भी बाधा उत्पन्न नहीं करती। इस राशि वालों को मिथुन, मकर और कुंभ राशि वालों से सहज ही प्रीति हो जाती है।

मिथुन
इस राशि का स्वामी बुध होता है। दूसरों को अपनी ओर आकृष्ट कर अपनी इच्छा पूरी कर पाला बदलने में देर नहीं लगाते हैं लेकिन तुला एवं कन्या राशि के संगी साथियों से इनकी कुछ ज्यादा ही दोस्ती फिट होती है। मिथुन के स्वामी बुध का रंग हरा होने से हरे-भरे खेतों, पार्कों में प्रेमालाप करना इन्हें बहुत रास आता है। यदि ये अपने प्रेमी को हरी मिर्च का जोड़ा प्रेम दिवस पर भेंट करें तो सफलता मिलेगी।

इन जगहों पर मिलेगा आपको प्यार

कर्क
इस राशि के लोग सभी राशि के लिए फिट है। अत्यंत भावुक होने के कारण ये अपने साथी पर तन-मन-धन लुटाने में कसर नहीं छोड़ते। इस राशि वाले प्रायः किसी भी राशि वालों से प्रेम की डोर बांध लेते हैं। नाच-गाने के कार्यक्रम, थियेटर व चित्रकला की प्रदर्शनी स्थल इनकी मुहब्बत करने के खास ठिकाने होते हैं। बहाने से साथी को एकांत में ले जाकर हद से गुजर जाना इनकी फितरत है।

सिंह
‘प्यार किया कोई चोरी नहीं की, छुप-छुप आहें भरना क्या’ यह गीत इस राशि वालों पर पूरी तरह फिट बैठता है। वैसे तो प्यार-मोहब्बत के लिए पीछे-पीछे घूमना इन्हें पसंद नहीं लेकिन प्यार हो गया तो क्या मजाल कोई उनके प्रेमी की ओर देख भी ले। इन्हें मकर और कुंभ राशि वालों से प्रेम संबंध बनाने में परहेज रखना चाहिए। साथ ही वृष और तुला के स्वामी शुक्र ग्रह से भी सूर्य की शत्रुता है।

कन्या
राशि का स्वामी बुध ग्रह होने से यह प्रेमी बुद्धिमानी के साथ अपने प्रेम संबंध बनाने में सफल हो जाते हैं। वृष और तुला राशि वालों के साथ इनकी मित्रता शीघ्र बन जाती है लेकिन कर्क का स्वामी चंद्र ग्रह के साथ इस राशि का शत्रु भाव रहता है।

इनसे दोस्ती करना आपके लिए बेस्ट –

तुला
इस राशि के प्रेमियों के लिए राशि स्वामी शुक्र बहुत ही अनुकूल रहता है लेकिन प्यार की राह में कदम फूंक-फूंक कर रखना इनका स्वभाव बन जाता है। इन्हें वृष, मकर व कुंभ राशि के साथ इनके मैच से इन्हे से बहुत फायदा होगा। साथ ही इनके लिए सूर्य के स्वामित्व वाली सिंह राशि एवं चंद्रमा के स्वामित्व वाली कर्क राशि प्रेम की डगर पर रोड़ा बनकर खड़ी होती हैं। अतः इन राशि वालों से सोच-समझकर प्रेम-संबंध बनाने चाहिए।

वृश्चिक
राशि का स्वामी मंगल अंगारक भी कहलाता है । स्वभाव से कू्र होने के कारण हठीला और प्रभावशाली भी कहलाता है। धर्म का प्रतिनिधित्व करने से इस राशि वाले प्रेमी जोड़े मंदिरों एवं वाटिकाओं में अपने प्यार की ठौर खोजते हैं। इस राशि के प्रेमी दिल, मेष, सिंह और कर्क राशि वालों से जल्द ही प्रेम संबंध बना लेते हैं। केसरिया या लाल रंग इनके लिए बहुत लाभदायक होता है।

धनु
राशि का स्वामी देवगुरु बृहस्पति सहनशील और विराट गुरुत्व का प्रतीक है। इनका प्रेम संबंध केवल भावात्मक ही नहीं होता अपितु यह किसी लक्ष्य को ध्यान में रख कर ही प्यार की राह चुनते हैं। प्यार की सफलता के लिए इस राशि के प्रेमी दिलों के लिए वृष और मीन राशि के साथी बहुत उपयोगी सिद्ध होते हैं। मित्र राशि का होने के कारण ग्रहों की दृष्टि अटूट प्रेम का प्रतीक बन जाती है। धनु राशि के प्रेमी दिलों को वृश्चिक, मिथुन और तुला राशि वालों से प्रेम-संबंध सोच-समझकर ही बनाना चाहिए।

आपकी राशि होगी इनसे मैच  –

मकर
मकर राशि का स्वामी शनि है। यूं तो इनके स्वभाव में क्रूरता होती है पर ये न्यायप्रिय भी होते हैं। अतः प्यार तो करेंगे पर अधिकार के साथ। प्यार के पहले चरण में ही शादी का प्रस्ताव रखना इस राशि वालों की फितरत होती है। दूसरा पक्ष यदि ना नुकुर करता है तो इन्हें क्रोध भी आ जाता है। तुला राशि का स्वामी शुक्र होने से मकर राशि वालों के प्यार की पुचकार इनके साथ खूब रंग लाती है।

कुंभ
इस राशि का स्वामी भी शनि ही है। आकृति कुंभ की होने से प्रेम घट भरने का मौका नहीं चूकते। पहले तो प्यार करने से कतराते हैं पर प्यार हो जाए तो दिलोजान से उसे निभाने में भी पीछे नहीं हटते। ‘हम बने, तुम बने इक-दूजे के लिए’ यह पंक्ति इन प्रेमियों के लिए विशेष महत्व रखती है। वृष, मिथुन एवं तुला राशि वालों के साथ इनकी प्रीति खूब निभती है।

मीन
इस राशि वाले यदि सोच-समझ कर प्यार के राही नहीं बनते हैं तो जल में मीन की तरह वियोग में तड़प भी सकते हैं। ‘तड़प दिन-रात की, कसक बिन बात की, भला ये रोग है कैसा, सजन अब तो बता दे’ इस प्रकार की मनोवृत्ति इस राशि के प्रेमियों के दिलों को कचोटती है। मेष, सिंह व धनु राशि के साथ मीन राशि वालों की प्रीति सफल रहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here