Home International Culture World Radio Day- वो जमाना जब घर में रेडियो होना गर्व की...

World Radio Day- वो जमाना जब घर में रेडियो होना गर्व की बात होती थी

37
0
Radio

द एंगल।

नई दिल्ली।

जमाना कितना बदल गया है एक जमाना था जब किसी घर में Radio होना गर्व की बात होती थी। जब लोगो की जिंदगी में रेडियो एक बहुत एहम भूमिका निभाता था। लेकिन अब वो जमाना बदल गया है। आज रेडियो तो क्या टीवी का भी जमाना नहीं रहा अब स्मार्टफोन का जमाना है।

Radio ने लोगो को जानकारी देने में बहुत अहम भूमिका निभाई है। इसका इस्तेमाल युवाओं को उन विषयों की चर्चा में शामिल करने के लिए किया गया जो उनको प्रभावित करते हैं। इसने प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदाओं के दौरान लोगों की कीमती जानों को बचाने में मदद की। यह पत्रकारों के लिए एक प्लैटफॉर्म हुआ करता था जिसके माध्यम से वह अपनी रिपोर्ट दुनिया तक पहुंचाते थे और अपनी कहानी सुनाते थे।

मौजूदा समय में भी यह सूचना फैलाने का सबसे शक्तिशाली और सस्ता माध्यम है। हालांकि रेडियो सदियों पुराना माध्यम हो गया लेकिन अब भी संचार के लिए इसका इस्तेमाल होता है। इसके अलावा 1945 में आज ही के दिन यानी 13 फरवरी को यूनाइटेड नेशंस रेडियो से पहली बार प्रसारण हुआ था। रेडियो की इन अहमियतों को देखते हुए हर साल रेडियो दिवस मनाया जाता है। औपचारिक रूप से पहला विश्व रेडियो दिवस 2012 में मनाया गया। स्पेन रेडियो अकैडमी ने 2010 में पहली बार इसका प्रस्ताव रखा था। 2011 में यूनेस्को की महासभा के 36वें सत्र में 13 फरवरी को विश्व रेडियो दिवस घोषित किया गया।

आज का दिन Radio के नाम –

हर साल यूनेस्को दुनिया भर के ब्रॉडकास्टर्स, संगठनों और समुदायों के साथ मिलकर रेडियो दिवस के अवसर पर कई तरह की गतिविधियों का आयोजन करता है।

इस दिन संचार के माध्यम के तौर पर रेडियो की अहमियत के बारे में चर्चा की जाती है और जागरूकता फैलाई जाती है। इस विषय पर भाषण दिया जाता है।

ये है इस साल का रेडियो दिवस का थीम

वर्ल्ड रेडियो डे 2020 का विषय ‘रेडियो और विविधता’ है। जैसा की शीर्षक से ही स्पष्ट है इस बार की थीम विविधता और बहुभाषावाद पर केंद्रित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here