Home Politics राजस्थान में सरकार रिपीट करवाने को लेकर कांग्रेस में जोश हाई, सीएम...

राजस्थान में सरकार रिपीट करवाने को लेकर कांग्रेस में जोश हाई, सीएम गहलोत प्रदेशवासियों को देंगे 5 और गारंटियां

88
0
राजस्थान में सरकार रिपीट करवाने को लेकर कांग्रेस में जोश हाई, सीएम गहलोत प्रदेशवासियों को देंगे 5 और गारंटियां (फाइल इमेज)

The Angle

जयपुर।

प्रदेश कांग्रेस के मुखिया गोविंद सिंह डोटासरा के यहां ईडी के ताबड़तोड़ एक्शन के बाद भी कांग्रेस पार्टी के जोश में कोई कमी नहीं आई है और पार्टी पूरे आत्मविश्वास के साथ राजस्थान में अपनी सरकार रिपीट करने की दिशा में लगातार आगे बढ़ रही है। हाल ही में कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश की महिलाओं को साधने के लिए 2 अहम गारंटियों का ऐलान किया था। अब आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रदेशवासियों को 5 और नई गारंटियां देने जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री गहलोत ने ट्वीट कर दी नई गारंटियों की जानकारी

मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने सोशल मीडिया पर ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। वहीं अभी प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वॉर रूम में पार्टी की कोर कमेटी की बैठक हो रही है। इस बैठक में कल दिल्ली में होने वाली स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक से पहले प्रदेश की कुछ और सीटों पर उम्मीदवारों के नामों पर मंथन किया जाएगा। इसके बाद कोर कमेटी में तैयार हुए उम्मीदवारों के पैनल को कल स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में रखा जाएगा। वहां फिर स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य उस पर चर्चा करेंगे। इसके बाद 30 अक्टूबर को दिल्ली में ही कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक होना प्रस्तावित है, जिसमें राजस्थान की कुछ और सीटों पर उम्मीदवारों के नामों पर मुहर लगेगी।

10 गारंटियों ने कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने में निभाई अहम भूमिका

वहीं मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व वाली प्रदेश की कांग्रेस सरकार की ओर से प्रदेशवासियों को दी गईं 10 गारंटियों ने कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने में अहम भूमिका निभाई है। ऐसे में अपने मौजूदा सरकार के काम और कुछ और गारंटियों के जरिए कांग्रेस का फोकस जनता के विभिन्न तबकों को साधने पर है, ताकि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार रिपीट करवाई जा सके।

सीएम गहलोत-सचिन पायलट के बीच की दूरियां पाटने में कांग्रेस आलाकमान रहा सफल

खास बात यह है कि लंबे समय बाद ही सही, कांग्रेस पार्टी की अंदरूनी खींचतान पर काबू पाने में कांग्रेस आलाकमान को काफी हद तक सफलता मिली है। यही वजह है कि अब संगठन के कमरों से लेकर सभाओं के मंचों तक पूरी कांग्रेस पार्टी जैसे एक माला में पिरोए हुए मोतियों जैसी नजर आने लगी है। सीएम गहलोत और सचिन पायलट भी पुराने तमाम गिले-शिकवे भुलाकर आगे बढ़ गए हैं, ताकि प्रदेश में इस बार सरकार न बदले, बल्कि 30 साल से चले आ रहे रिवाज को बदला जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here