Home Politics राजस्थान में कांग्रेस की पहली सूची का इंतजार, अब इस दिन हो...

राजस्थान में कांग्रेस की पहली सूची का इंतजार, अब इस दिन हो सकता है उम्मीदवारों का ऐलान

56
0
राजस्थान में कांग्रेस की पहली सूची का इंतजार, अब इस दिन हो सकता है उम्मीदवारों का ऐलान

The Angle

जयपुर।

राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस की पहली सूची का इंतजार बढ़ता ही जा रहा है। पहले कहा जा रहा था कि 18 अक्टूबर को दिल्ली में होने वाली सीईसी की बैठक के बाद किसी भी पल कांग्रेस आलाकमान सूची जारी कर सकता है। इसे लेकर दिनभर कयासों के दौर चलते रहे और राजनीतिक जानकार अपने-अपने गणित के हिसाब से संभावित उम्मीदवारों की सूची का दावा करते रहे, लेकिन देर रात तक भी सूची जारी नहीं हो सकी।

कांग्रेस प्रियंका गांधी के दौरे के बाद जारी कर सकती है पहली सूची

अब चर्चा है कि कल यानि 20 अक्टूबर को प्रियंका गांधी की दौसा के सिकराय में एक चुनावी सभा होनी प्रस्तावित है। इस दौरान प्रियंका गांधी ईआरसीपी को लेकर कांग्रेस की ओर से निकाली जा रही वादाखिलाफी रैली के समापन पर आमजन को संबोधित करेंगी। इस सभा के दौरान कांग्रेस में किसी तरह की गुटबाजी देखने को न मिले, इसके लिए माना जा रहा है कि अब कांग्रेस की पहली सूची प्रियंका गांधी के कल के राजस्थान दौरे के बाद ही जारी होगी।

कार्यकर्ताओं को सिर्फ कांग्रेस संगठन और प्रियंका गांधी के नारे लगाने के निर्देश

वहीं इसे लेकर यह भी चर्चा है कि रैली के दौरान तमाम पार्टी कार्यकर्ताओं को ये भी स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि सिकराय में सभा के दौरान किसी स्थानीय नेता के नारे न लगाए जाएं, बल्कि सिर्फ कांग्रेस पार्टी और प्रियंका गांधी के नारे ही लगाए जाएं। अगर किसी नेता के समर्थक व्यक्ति विशेष के समर्थन में नारेबाजी करते या किसी अन्य नेता का विरोध दर्ज करवाते पाए गए, तो पार्टी इस पर एक्शन भी ले सकती है।

सूची जारी हुई तो सभा के पोस्टर में लगने वाले फोटो पर भी हो सकता है विवाद

जानकारों का मानना है कि अगर उम्मीदवारों की लिस्ट आने के बाद सभी नेता अपने-अपने क्षेत्र में प्रचार में व्यस्त हो जाएंगे और ऐसे में इस बात की भी संभावना है कि प्रियंका गांधी की रैली में लोगों की भीड़ कुछ कम रह जाए। वहीं सूची जारी होने के बाद सभा के पोस्टर पर किस नेता का फोटो लगा और किसका नहीं, इसे लेकर भी विवाद देखने को मिल सकता है। इसीलिए प्रियंका गांधी की इस रैली को किसी नेता विशेष के समर्थन में की गई रैली की बजाय पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए की जा रही रैली के रूप में आयोजित करवाने की तैयारी है, ताकि पार्टी को चुनावी रण में एकजुट दिखाया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here