Home Education 4 दिन से उपवास पर बैठे बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष...

4 दिन से उपवास पर बैठे बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव की अचानक बिगड़ी तबीयत !

95
0
UPEN YADAV (FILE PHOTO )

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड अध्यक्ष के पद पर जल्द नियुक्ति की मांग को लेकर उपवास पर उपेन यादव की तबीयत मंगलवार को बिगड़ गई। जिसके बाद डॉक्टर की टीम ने उन्हें जांच कर उपवास खत्म करने की सलाह थी। लेकिन बावजूद इसके उपेन का उपवास जारी रखते हुए सरकार को बड़े आंदोलन की चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने जल्द से जल्द नए बोर्ड अध्यक्ष की नियुक्ति करने के साथ ही लंबित भर्ती परीक्षाओं को लेकर समाधान नहीं किया। तो प्रदेश के युवा सरकार के खिलाफ बड़ा आंदोलन करेंगे।

उपेन की उपवास के दौरान बिगड़ी तबीयत

यादव पिछले 4 दिनों से उपेन अन्न त्याग कर उपवास कर रहे हैं। लेकिन आज दोपहर में उनकी तबीयत अचानक बिगड़ गई। जिसके बाद उनके साथियों ने डॉक्टर की टीम को त्रिवेणी नगर स्थित उनके घर पर बुलाया। जहां मेडिकल जांच के बाद डॉक्टर ने उन्हें ग्लूकोज की ड्रिप चढ़ना शुरू कर दिया है। लेकिन उनकी हालत स्थिर बनी हुई है। इसके बाद डॉक्टर्स की टीम ने भी उन्हें अन्न ग्रहण करने की सलाह दी है। लेकिन उपेन ने अपने अन्न सत्याग्रह को जारी रखते हुए जल्द पांच सूत्री मांगों को पूरा होने के बाद ही अन्न ग्रहण करने की बात कही है।

उपेन की ये है प्रमुख मांगें

बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेशअध्यक्ष उपेन यादव लगातार बेरोजगारों की मांगों को लेकर संघर्षरत रहते है .ऐसे में अब यादव ने एक बार फिर प्रमुख मांगों के साथ सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला है .दरअसल उनकी मांगों में प्रमुख मांगे है कि कर्मचारी चयन बोर्ड अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्ति तत्काल की जाए। जिससे बोर्ड की दूसरी भर्तियों की प्रक्रिया प्रभावित ना होl फायरमैन, BCI, वनरक्षक, ​अध्यापक भर्तियों का परिणाम तत्काल जारी किया जाएl साथ ही नई 1 लाख भर्तियों का विभाग वाइज वर्गीकरण करके भर्ती परीक्षाओं का कैलेंडर तत्काल जारी किया जाएl

बोर्ड अध्यक्ष की नियुक्ति प्रमुख मांग

आपको बता दे कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा को ने अपना इस्तीफा सरकार को भेज दिया है .और उन्होंने अपने इस्तीफे में कहा था कि  उनका कार्यकाल 7 अक्टूबर को पूरा हो जाएगा.। फिलहाल बोर्ड द्वारा 8 भर्ती परीक्षाएं प्रस्तावित हैं। ऐसे में अगर मैं अपना कार्यकाल पूरा भी कर लेता तो भी सिर्फ तीन भर्ती परीक्षाओं को पूरा कर पाऊंगा। 5 दूसरी भर्ती परीक्षाएं अपने निर्धारित वक्त से अटक सकती हैं। ऐसे में मेरी जगह किसी और व्यक्ति को जिम्मेदारी दी जाएगी तो नया अध्यक्ष आठों भर्ती परीक्षाएं निर्धारित वक्त पर पूरी करा सकता है। ऐसे में बेरोजगारों की मांग है बोर्ड अध्यक्ष की नियुक्ति जल्द से जल्द की जाए. ताकि आचार संहिता लगने से पहले नियुक्तियों का संशोधन और नई भर्ती परीक्षा की विज्ञप्ति जारी की जा सके

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here