Home Politics राजस्थान में भाजपा की जीत के लिए वसुंधरा ही क्यों जरुरी,,,निकल कर...

राजस्थान में भाजपा की जीत के लिए वसुंधरा ही क्यों जरुरी,,,निकल कर आई बड़ी बात !

63
0

राजस्थान में भाजापा को जहा सत्ता विरोधी माहौल व हर बार सत्ता बदलने के रिवाज का लाभ मिलने की उम्मीद है ,वही पार्टी के भीतर नेतृत्व को लेकर खींचतान का भी संकट है .केंद्रीय नेतृत्व लगातार सामूहिक नेतृत्व पर जोर दे रहा है .लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का समर्थक खेमा लगातार मुख्यमंत्री पद का चेहरा घोषित करने के लिए दबाव बनाए हुए है.इस साल के आखिर में होने वाले राजस्थान समेत पांच राज्यों के चुनाव इसलिए भी अहम है

भाजपा की जीत के लिए ये जरुरी

बीजेपी के लिए ये चुनाव इसलिए अहम है ,क्योंकि इसके नतीजों से अगले साल अप्रैल मई में होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए माहौल बनेगा.ऐसे में बीजेपी की कोशिश इन राज्यो मे बेहतर प्रदर्शन करने का दबाव भी है .इनमे राजस्थान अपनी राजनीति की वजह से भाजपा के लिए काफी मुफीद माना जा रहा है .राजय में अभी कांग्रेस की सरकार है ,बीते दो दशको से वहा पर सत्ता बदलती रही है ,राज्य में सत्ता विरोधी माहौल का लाभ भी बीजेपी को मिलने की उम्मीद है .बीते सालों में कांग्रेस का अंदरुनी कलह भी बीजेपी का मददगार हो सकता है

भाजपा की जीत में रुकावट कांग्रेस की एकता

कांग्रेस में हाल ही में कुछ बदलाव जरुर नजर आया है. इस समय कांग्रेस काफी एकजुट दिख रही है .साथ ही कांग्रेस की सरकार ने कई ऐसी घोषणाएं व कार्यक्रम शुरु किए है ,जिससे सत्ता विरोधी माहौल कम होने की उम्मीदा भी जताई जा रही है.इससे भी बीजेपी काफी सतर्क है.बीते दो दशको में बीजेपी व कांग्रेस की राजनीति दो नेताओं के बीच ही सिमटी रही है.भाजपा की सरकार नेतृत्व वसुंधरा राजे और कांग्रेस की सरकार का नेतृत्व अशोक गहलोत के पास रहा है ऐसे में बीजेपी का एक खेमा पार्टी पर वसुंधरा राजे के चेहरे को घोषित करने के लिए दबाव बना रहे है .

वसुंधरा राजे पर ही दारोमदार

बीजेपी के लिए सबसे बडी दिक्तत राज्य में पार्टी नेताओं के बीच समन्वय की कमी है ,बीते पांच साल में यहा पर काफी प्रयोग किए है लेकिन अभी भी राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर सबसे ज्यादा दारोमदार है .हालांकि पार्टी के पास राज्य में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत,लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला जैसे चेहरे भी है ,इस दौरान पार्टी वरिष्ट नेता घनश्याम तिवाडी को राज्यसभा में लेकर आई है .और गुलाबचंद कटारिया को राज्यपाल बनाया है ,और जगदीप धनखड को उप राष्ट्रपति बनाकर पार्टी ने राजस्थान की राजनीति को साधने की एक और कोशिश की है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here