Home Society अदाणी फाउंडेशन द्वारा आजीविका विकास कार्यक्रम के अंतर्गत एफपीओ सुदृढ़ीकरण हेतु प्रशिक्षण...

अदाणी फाउंडेशन द्वारा आजीविका विकास कार्यक्रम के अंतर्गत एफपीओ सुदृढ़ीकरण हेतु प्रशिक्षण का आयोजन

84
0

अदाणी फाउंडेशन द्वारा संचालित आजीविका विकास कार्यक्रम के अंतर्गत हाडोती प्रगतिशील प्रोड्यूसर कंपनी के बोर्ड सदस्यों एवं कार्यकर्ताओं को तीन दिवसीय प्रशिक्षण प्रदान किया गया।अदाणी पॉवर प्लांट हेड श्री प्रमोद सक्सेना ने बताया कि एफपीओ के माध्यम से संचालित डेयरी विकास कार्यक्रम से क्षेत्र में सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं।सीएसआर हेड गोपाल सिंह देवड़ा ने बताया कि अदाणी फाउंडेशन द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य, आजीविका, विकास और बुनियादी ढाँचागत विकास कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं।

आजीविका विकास कार्यक्रम

विकास कार्यक्रम के अंतर्गत पशु नस्ल सुधार, दुग्ध डेयरी, बागवानी विकास, महिला सशक्तिकरण आदि कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं।वर्ष 2022 में हाडोती प्रगतिशील प्रोड्यूसर कंपनी का गठन कर डेयरी विकास कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया था, जिसके तहत प्रतिमाह 7 से 8 लाख रुपए तक के दूध का कारोबार किया जाता है। इसे अमूल डेयरी से जोड़ा गया है, जो आसपास के गाँवों में दूध संकलन केंद्र स्थापित कर कार्यक्रम को आगे बढ़ाएगी।

आजीविका विकास कार्यक्रम का उद्देश्य

प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षक दिव्या यादव ने महिलाओं को बताया कि एफपीओ के गठन से किस तरह से किसानों के उत्पादन का उचित मूल्य दिलाया जा सकता है। एफपीओ एक ऐसा माध्यम है, जो कि किसानों द्वारा उत्पादित फसल एवं डेरी के अंतर्गत प्रत्यक्ष रूप से मार्केट से संबंध स्थापित कर किसानों को लाभ पहुँचाता है।एफपीओ के गठन के फायदे, एफपीओ बनाने की प्रक्रिया, बोर्ड सदस्यों के दायित्व, व्यवसाय की रूपरेखा आदि पर विस्तार से चर्चा की गई। इस दौरान प्रशिक्षक ने महिलाओं को बताया कि स्वयं जागरूक होकर सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का फायदा लेवें एवं बाजार में नवीन तकनीकी हेतु संपर्क करें, ताकि शेयरधारकों को अधिकतम फायदा पहुँचाया जा सके।

महिलाएं विकास कार्यक्रम को संचालित कर रही

इस अवसर पर शरणार्थी एफपीओ चेचट से दुर्गेश कुमारी ने महिलाओं को बताया कि शरणागति एफपीओ कैसे शुरु हुआ एवं आज करोड़ों रुपए का व्यवसाय कर रहा है, जिसमें मुख्यतः फसल खरीदी-बिक्री एवं किसानों को खाद एवं बीज की सुनियोजित व्यवस्था करवाना मुख्य है। इससे संगठन को लाखों रुपए का फायदा हो रहा है।अदाणी फाउंडेशन से रामचरण चौधरी ने बताया कि वर्तमान में हाडोती प्रगतिशील प्रोड्यूसर कंपनी में 500 से अधिक महिलाएँ जुड़कर डेयरी विकास कार्यक्रम को संचालित कर रही हैं एवं आने वाले समय में दुग्ध डेरी के साथ-साथ कृषि एवं अन्य गतिविधियों पर कार्य किया जाएगा, जिससे स्थानीय लोगों को फायदा होगा एवं आजीविका में वृद्धि होगी। इस अवसर पर अदाणी फाउंडेशन द्वारा श्रेष्ठ कार्य करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here