Home Politics कांग्रेस प्रदेश पदाधिकारियों की अहम बैठक, सीएम गहलोत, सुखजिंदर रंधावा, गोविंद डोटासरा...

कांग्रेस प्रदेश पदाधिकारियों की अहम बैठक, सीएम गहलोत, सुखजिंदर रंधावा, गोविंद डोटासरा देंगे जीत का मंत्र

100
0
कांग्रेस प्रदेश पदाधिकारियों की अहम बैठक, सीएम गहलोत, सुखजिंदर रंधावा, गोविंद डोटासरा देंगे जीत का मंत्र

The Angle

जयपुर।

राजस्थान के इस साल के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव को जीतने के लिए कांग्रेस अपनी कमर कस चुकी है। इसी के तहत पिछले दिनों ही पार्टी ने संगठन में रिक्त चल रहे पदों को भरते हुए भारी-भरकम संगठन पार्टी का तैयार किया है। इससे जहां ज्यादा से ज्यादा कार्यकर्ता कांग्रेस पार्टी के लिए काम कर सकेंगे, वहीं इस दौरान तमाम गुटों और युवा-बुजुर्ग के बीच बैलेंस बनाते हुए नियुक्तियां की गई हैं, ताकि तमाम खेमे के नेताओं को साधा जा सके।

बैठक में शामिल होने पीसीसी पहुंच रहे कांग्रेस पदाधिकारी

हाल ही में पीसीसी में ब्लॉक अध्यक्षों की बैठक आयोजित की गई थी और उन्हें पार्टी को मजबूत करने का मैसेज दिया गया था। वहीं आज पीसीसी के नव नियुक्त प्रदेश पदाधिकारियों और जिलाध्यक्षों की संयुक्त बैठक आयोजित की गई है। इस अहम बैठक के लिए पार्टी पदाधिकारियों का पीसीसी कार्यालय पहुंचने का सिलसिला जारी है, वहीं पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा और कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा भी पीसीसी कार्यालय पहुंच चुके हैं।

कांग्रेस पदाधिकारियों की बैठक को सीएम गहलोत वर्चुअली करेंगे संबोधित

जानकारी के मुताबिक इस बैठक को सीएम अशोक गहलोत जहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करेंगे, वहीं पीसीसी चीफ, प्रदेश प्रभारी रंधावा और तीनों सह प्रभारी पार्टी पदाधिकारियों को आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनावों में एकजुट होकर काम करने का मैसेज देंगे, ताकि प्रदेश और केंद्र की सत्ता में कांग्रेस का कमबैक करवाया जा सके।

हिमाचल-कर्नाटक में मिली जीत से लौटा कार्यकर्ताओं का खोया हुआ आत्मविश्वास

कांग्रेस के लिए इस बार का विधानसभा और लोकसभा चुनाव काफी अहम माना जा रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि राजस्थान में जहां कांग्रेस के पास करीब 3 दशक बाद सरकार रिपीट करने का सुनहरा मौका है, वहीं केंद्र की सत्ता में बैठी भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन को भी सत्ता से बाहर करने का अवसर है। दरअसल पिछले 2 चुनावों में देश में मोदी लहर के चलते कांग्रेस को लोकसभा के साथ ही विभिन्न राज्यों के विधानसभा चुनाव में भी काफी नुकसान उठाना पड़ा था। लेकिन बीते दिनों में हिमाचल और उसके बाद कर्नाटक में भाजपा को पटखनी देने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं का खोया हुआ आत्मविश्वास फिर से लौटने लगा है और पार्टी को उम्मीद है कि इन्हीं उत्साहित पार्टी कार्यकर्ताओं की बदौलत पार्टी केंद्र में भी सरकार बनाने में कामयाब होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here