Home Crime रिश्तव कांड में जयपुर हेरिटेज निगम मेयर मुनेश गुर्जर पर गिरी गाज,...

रिश्तव कांड में जयपुर हेरिटेज निगम मेयर मुनेश गुर्जर पर गिरी गाज, जांच पूरी होने तक किया गया निलंबित

165
0
रिश्तव कांड में जयपुर हेरिटेज निगम मेयर मुनेश गुर्जर पर गिरी गाज, जांच पूरी होने तक किया गया निलंबित (फाइल इमेज)

The Angle

जयपुर।

जयपुर हेरिटेज नगर निगम की मेयर और कांग्रेस नेता मुनेश गुर्जर के पति सुशील गुर्जर को एसीबी के रिश्वत कांड में ट्रैप करने के बाद कल एसीबी कोर्ट में सुशील गुर्जर और दोनों दलालों को कोर्ट में पेश किया गया था। जहां से उन्हें 2 दिन की रिमांड पर सौंप दिया गया है। वहीं महापौर मुनेश गुर्जर के खिलाफ भी सरकार ने तत्काल एक्शन लेते हुए उन्हें मामले की जांच पूरी होने तक निलंबित कर दिया है। स्वायत्त शासन विभाग ने इस संबंध में जरूरी आदेश जारी कर दिए हैं। ऐसे में चर्चा है कि पार्षद नसरीम बानो को हेरिटेज निगम में कार्यवाहक मेयर बनाया जा सकता है।

स्वायत्त-शासन-विभाग-ने-मेयर-मुनेश-गुर्जर-को-निलंबित-करने-का-आदेश-किया-जारी

मुनेश गुर्जर का आरोप- पिछली बार मेरी बच्ची को प्रताड़ित किया, अब मुझे परेशान कर रहे

निलंबन की कार्रवाई को लेकर निलंबित मेयर मुनेश गुर्जर ने कहा कि पूरे जयपुर, पूरे राजस्थान को पता है कि मुझे परेशान किया जा रहा है। पिछली बार मेरी बच्ची को भी प्रताड़ित किया गया था। पूरे प्रदेश को पता है कि एक महिला को परेशान किया जा रहा है। लेकिन मैं फिर भी लड़ूंगी, मैं सत्य के साथ हूं। अगर ऐसा कुछ प्रकरण है तो जांच में उसकी सत्यता सभी के सामने आ जाएगी। मेरी कार्यशैली बहुत कुशल है। मेरे साइन से 500 पट्टे बांटे हैं। ऐसे में तुच्छ राजनीति का जल्द खुलासा हो जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि जो रास्ते बनते हैं वो अपनाए जाएंगे।

निलंबन के बाद मेयर की भूमिका को लेकर भी जांच कर रही एसीबी

वहीं इस पूरे प्रकरण पर मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मेयर को लोगों का भला करने के लिए बनाया था, चोरी करने के लिए नहीं। इनके खिलाफ भ्रष्टाचार की लगातार शिकायतें मिल रही थीं। वहीं निलंबन के बाद अब मेयर की भूमिका को लेकर भी जांच की जा रही है। दूसरी तरफ मेयर के पति सुशील गुर्जर ने अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर खुद को बेगुनाह बताते हुए बिना नाम लिए कांग्रेस के एक बड़े नेता पर आरोप लगाया है।

एसीबी को मेयर की घर की तलाशी के दौरान मिले थे नकद 41.55 लाख रुपए

मेयर मुनेश गुर्जर के पति और रिश्वत कांड में मुख्य आरोपी सुशील गुर्जर ने कहा कि कांग्रेस के एक बड़े नेता के इशारे पर मुझे फंसाने की साजिश की गई है। लेकिन मैं इससे डरने वाला नहीं हूं। बता दें शुक्रवार शाम को एसीबी की टीम ने पट्टा जारी करने की एवज में 2 लाख रुपए मांगे जाने पर मेयर के पति सुशील गुर्जर और 2 दलाल नारायण सिंह और अनिल दुबे को गिरफ्तार किया था। उसके बाद मेयर के घर में छानबीन के दौरान 41 लाख 55 हजार रुपए की नकद राशि बरामद हुई थी। इसके बाद एसीबी की टीम इस पूरे मामले को लेकर अब नगर निगम की पुरानी फाइलों की भी जांच कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here