Home Politics प्रधानमंत्री मणिपुर हिंसा मामले पर दें सवालों के जवाब, राजस्थान पर दिया...

प्रधानमंत्री मणिपुर हिंसा मामले पर दें सवालों के जवाब, राजस्थान पर दिया गया बयान निंदनीय- लोकेश शर्मा, विशेषाधिकारी, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

106
0
लोकेश शर्मा,सीएम गहलोत ,ओएसडी(फाइल फोटो)

मणिपुर हिंसा मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिए गए बयान पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के विशेषाधिकारी लोकेश शर्मा ने पलटवार किया है। लोकेश शर्मा ने बयान जारी कर कहा कि प्रधानमंत्री ने जिस तरह का बयान दिया है उससे देश के 140 करोड़ लोगों को निराशा हाथ लगी है। केंद्र सरकार अपनी लापरवाही का ठीकरा दूसरों के सिर पर फोड़ना चाहती है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के विशेषाधिकारी लोकेश शर्मा ने भी प्रधानमंत्री के बयान की ट्वीट कर निंदा की।

लोकेश शर्मा ने कसा मोदी पर तंज

लोकेश शर्मा ने ट्वीट किया कि नरेंद्र मोदी जी आप शायद भूल रहे हैं कि आप देश के प्रधानमंत्री हैं, मणिपुर में जो हो रहा है उसे रोकने की जिम्मेदारी किसकी है..? इस लच्छेदार भाषण से क्या ये स्थिति सुधर जाएगी..?? बेहद शर्मनाक है, निंदनीय है कि मणिपुर में जो घट रहा है उसको राजस्थान और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों से जोड़कर वहां की इक्का-दुक्का घटना से तुलना की जा रही है जिन पर कि वहां की सरकारें त्वरित कार्रवाई भी कर रही हैं..

लोकेश शर्मा ने मणिपुर की घटना का जिक्र किया

मणिपुर के भयावह हालात से पूरा देश चिंतित है अपना राजधर्म निभाओ और मणिपुर को बचाओ। लोकेश शर्मा ने बयान जारी कर कहा कि आखिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ मुद्दों पर मौन क्यों हैं ? इस बात की सफाई देनी चाहिए। लोकेश शर्मा ने अपने बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कुछ सवाल भी पूछे।

मोदी से पूछे शर्मा ने सवाल


सवाल 1. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने बयान में घटना की निंदा तो की, लेकिन घटना के वायरल हो रहे वीडियो में साफ नजर आ रहे आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए भाजपा शासित मणिपुर सरकार और केंद्रीय गृह मंत्रालय ने क्या कुछ कदम उठाए, इस पर उन्होंने कुछ भी क्यों नहीं कहा ? सवाल 2. मणिपुर में हिंसा के चलते मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार तकरीबन 50 हजार परिवार यहां से पलायन कर गए। केंद्र सरकार ने उन लोगों को रोकने के लिए क्या कदम उठाए

सवालों के माध्यम से घेरा केंद्र को

सवाल 3. आखिर केंद्र और राज्य सरकार इतने लंबे समय में भी हिंसा को खत्म क्यों नहीं कर पाए ? प्रदर्शनकारियों पर किस तरह की कार्रवाई की गई, यह भी प्रधानमंत्री ने अपने बयान में नहीं बताया ?सवाल 4. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के अन्य राज्यों और देशों का दौरा तो कर रहे हैं, लेकिन हिंसाग्रस्त मणिपुर का एक बार भी अब तक दौरा क्यों नहीं किया ?
सवाल 5. मणिपुर जब हिंसा की आग में झुलस रहा था और लोगों की जान पर संकट था, उस समय प्रधानमंत्री कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के प्रचार में क्यों व्यस्त रहे ? क्या नॉर्थ-ईस्ट के राज्य मोदी सरकार की प्राथमिकता नहीं हैं ?

अमित शाह भी फेल साबित हुए -शर्मा

सवाल 6. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मणिपुर दौरे पर रहे। यहां के अधिकारियों की मीटिंग भी ली, उसके बाद भी हिंसा नहीं रुकी, क्या गृहमंत्री के रूप में अमित शाह फेल साबित हुए ? अगर हां तो क्या अमित शाह इस्तीफा देंगे ? सवाल 7. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री मोदी से देशहित में राइट टू हेल्थ और राइट टू सोशल सिक्योरिटी जैसे बिल संसद से पारित करवाने की मांग की थी, क्या मोदी सरकार संसद के मौजूदा सत्र में ऐसा कोई बिल लाएगी ?

मणिपुर की चर्चा विदेशों में हो रही !


सवाल 8. मणिपुर हिंसा को लेकर यूरोपीय संसद में चर्चा करते हुए भारत की कड़ी आलोचना की गई। इस प्रस्ताव में आरोप लगाया गया कि मणिपुर में अल्पसंख्यक समुदायों के प्रति असहिष्णुता के चलते ताज़ा हिंसा के हालात पैदा हुए हैं। प्रस्ताव में कहा गया है कि अल्पसंख्यक समुदायों के प्रति असहिष्णुता के चलते मणिपुर में हिंसा के हालात पैदा हुए हैं। प्रधानमंत्री को इस पर भी जवाब देना चाहिए था ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here