Home Politics 2222 जोड़ों का सामूहिक विवाह सम्मेलन, सीएम गहलोत हुए शामिल, सुनाया वसुंधरा...

2222 जोड़ों का सामूहिक विवाह सम्मेलन, सीएम गहलोत हुए शामिल, सुनाया वसुंधरा राजे से जुड़ा अहम वाकया

143
0
2222 जोड़ों का सामूहिक विवाह सम्मेलन, सीएम गहलोत हुए शामिल, सुनाया वसुंधरा राजे से जुड़ा अहम वाकया

The Angle

जयपुर।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज बारां में 2 हजार 222 जोड़ों के सामूहिक विवाह सम्मेलन में शिरकत करने पहुंचे। यहां अपने संबोधन में उन्होंने कार्यक्रम के मुख्य आयोजक मंत्री प्रमोद जैन भाया और उनके परिवार की इस पहल के लिए सराहना की। गहलोत ने कहा कि इस कार्यक्रम में विभिन्न धर्मों के जोड़ों का सामूहिक विवाह करवाया जा रहा है, जो कि हमारे देश की अनेकता में एकता की पहचान है। वहीं इस दौरान उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर भी हमला बोला।

गहलोत ने एक वाकया सुनाते हुए कहा कि एक बार मैं और डॉ. सीपी जोशी ऐसे ही एक सामूहिक विवाह सम्मेलन में गए थे। उस समय पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने हमारे ऊपर बाल विवाह में शामिल होने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज करवा दिया था। ये मामला बाद में सुप्रीम कोर्ट तक भी गया। गहलोत ने कहा कि ऐसे भी लोग होते हैं जो अच्छे कामों में भी रोड़े अटका देते हैं।

हिंदुत्व के मुद्दे पर भाजपा को घेरा, मंच से पूछा- क्या हम हिंदू नहीं ?

वहीं इस दौरान सीएम अशोक गहलोत ने हिंदुत्व के मुद्दे पर भाजपा को जमकर आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि भाजपा हिंदू की बात करती है, लेकिन हम हिंदू नहीं हैं क्या ? उन्होंने पूछा कि क्या सिर्फ भ्रम फैलाने वाले लोग ही हिंदू हैं ? वहीं हाल ही में राजस्थान के देवस्थान विभाग ने विभाग के करीब 500 मंदिरों में गायत्री मंत्र के ओम लिखी पीली पताका लगाने का फैसला किया है। इसकी शुरुआत जयपुर में मंत्री शकुंतला रावत कर चुकी हैं।

इसे लेकर कांग्रेस पर सॉफ्ट हिंदुत्व अपनाने के आरोप लग रहे हैं। इस पर सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि हिंदू मंदिरों के ऊपर जो पट्टिका लगती है उसका रंग केसरिया होता है, वही रंग की पट्टिका देवस्थान मंत्री लगा रही हैं, तो फिर इस पर राजनीति क्यों की जा रही है ? वहीं पट्टिका में लिखे ओम को लेकर सीएम गहलोत ने कहा कि इससे हम सभी को एक संदेश और शक्ति मिलती है।

सीएम गहलोत ने की सामूहिक विवाह सम्मेलन के आयोजनकर्ताओं की पहल की सराहना

बता दें इस सामूहिक विवाह सम्मेलन में अलग-अलग धर्मों के 2 हजार 222 जोड़ों का निःशुल्क विवाह करवाया गया। कार्यक्रम के मुख्य आयोजनकर्ता प्रदेश के खनन और गौपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया और उनका परिवार था। जबकि कई प्रवासी राजस्थानी दानदाताओं ने भी विवाह आयोजन को सफल बनाने के लिए आर्थिक और अन्य माध्यमों से कार्यक्रम में अपना सहयोग दिया। इसके लिए भी सीएम अशोक गहलोत ने सभी का आभार जताते हुए उनकी इस पहल के लिए सराहना की।

Previous article12वीं कक्षा का कला वर्ग का परीक्षा परिणाम हुआ जारी, लड़कियों ने परीक्षा परिणाम में फिर मारी बाजी
Next articleआंधी-तूफान से प्रदेश में हुए नुकसान पर सीएम गहलोत का संवेदनशील फैसला, ट्वीट कर दी जानकारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here