Home National आपातकाल की बरसी पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी ने कांग्रेस को...

आपातकाल की बरसी पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी ने कांग्रेस को सुनाई खरी-खरी

39
0
आपातकाल की बरसी पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी ने कांग्रेस को सुनाई खरी-खरी

The Angle

नई दिल्ली।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और चित्तौड़गढ़ सांसद सीपी जोशी ने आज के दिन को भारतीय इतिहास का काला धब्बा बताते हुए कांग्रेस को अपना इतिहास देखने की नसीहत दी। नई दिल्ली में मीडिया से बातचीत में सीपी जोशी ने कहा कि लोकतंत्र के इतिहास में आज के दिन को भुलाया नहीं जा सकता। यह लोकतंत्र के इतिहास का काला दिन है, जिस दिन लोकतंत्र को अपने अनुचित मंसूबों के कारण रौंदा गया।

सीपी जोशी बोले- मीडिया पर प्रतिबंध लगाने वाले किस मुंह से संविधान की दुहाई दे रहे

जोशी ने कहा कि आज उन दिनों को याद करने का दिन है जब लोकतंत्र के सिपाहियों को 19 महीने तक जेल की सलाखों के पीछे रहना पड़ा। भाजपा उनके त्याग और बलिदान को नमन करती है। उन्हें याद करते हैं कि किस तरीके से उन्हें जेल में डाल दिया गया। मीडिया पर प्रतिबंध लगा दिया गया। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए जोशी ने कहा कि आखिर वे लोग किस मुंह से संविधान की दुहाई देते हैं।

जनसंघ से भाजपा ने लोकतंत्र को बजाने और जनहित में काम किया- जोशी

जोशी ने कहा कि उन्हें अपना इतिहास देखना चाहिए कि किस प्रकार से जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और सोनिया गांधी ने अपने समय में कितनी बार संविधान में बदलाव करवाया, जबकि जनसंघ से लेकर भाजपा ने लोकतंत्र को बचाने और जनता के हितों को लेकर हमेशा आंदोलन किए और नीतियां भी बनाईं। कांग्रेस पार्टी का इतिहास भी देखना चाहिए कि उन्होंने किस प्रकार से देश में अपने विरोधियों को दबाने के लिए इमरजेंसी लगाई। आपातकाल लगाया और जनसंघ की विचारधारा के लोगों को जेल में ठूंस दिया गया।

पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार का दिया उदाहरण

उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार का उदाहरण देते हुए कहा कि हमने 13 महीने और तेरह दिन की सरकार भी चलाई। महज एक वोट से सरकार गिर गई, भाजपा ने सत्ता को ठोकर मार दी। लेकिन लोकतांत्रिक मूल्यों के साथ किसी प्रकार का समझौता नहीं किया। उन्होंने कहा कि जनसंघ से लेकर भाजपा तक हमारा राजनीतिक इतिहास भी जनता बखूबी जानती है। कांग्रेस का इतिहास भी देश के सामने है, जो लोग आज संविधान की दुहाई देते हैं, उन्हें अपना इतिहास देखने की आवश्यकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here