Home Politics पीएम मोदी ने चित्तौड़गढ़ दौरे में खुद ही बता दी अपनी गारंटियों...

पीएम मोदी ने चित्तौड़गढ़ दौरे में खुद ही बता दी अपनी गारंटियों की सच्चाई !

84
0
पीएम मोदी ने चित्तौड़गढ़ दौरे में खुद ही बता दी अपनी गारंटियों की सच्चाई ! (फाइल इमेज)

The Angle

जयपुर।

पीएम मोदी हाल ही में चित्तौड़गढ़ दौरे पर आए और हर बार की तरह इस बार भी प्रदेश की जनता को नए-नए सपने दिखाए, लेकिन इन सपनों के साकार होने की संभावना कितनी है, ये भी खुद ही बता गए। दरअसल पीएम मोदी ने चित्तौड़गढ़ की चुनावी जनसभा में एक तरफ तो प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर हमला बोलते हुए गारंटी दी कि भाजपा आएगी तो दंगे रुकवाएगी, भाजपा आएगी, पत्थरबाजी रुकवाएगी। लेकिन पीएम मोदी भूल गए कि मणिपुर में भी भाजपा की ही सरकार है, जहां बीते करीब 6 महीने से हिंसा का माहौल है, जिसे काबू कर शांति स्थापित करने में भाजपा की डबल इंजन सरकार नाकाम रही है। इसी तरह यूपी में भी भाजपा की डबल इंजन की सरकार है, उसके बाद भी यूपी में आज भी महिला और एससी-एसटी के प्रति अन्याय चरम पर हैं।

ईआरसीपी को लेकर प्रधानमंत्री की गारंटी का 5 साल बाद भी अता-पता नहीं

इसके साथ ही पीएम मोदी ने चित्तौड़गढ़ की धरा पर प्रदेशवासियों को संदेश दिया कि उनके गुजरात का मुख्यमंत्री रहते राजस्थान को नर्मदा का जल बिना किसी कानूनी लड़ाई के मिला था, ये मोदी की गारंटी है। लेकिन पीएम मोदी अपनी उस गारंटी का जिक्र करने से पूरी तरह बचते रहे, जो उन्होंने जयपुर और अजमेर में 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश के 13 जिलों को दी थी और कहा था कि ईआरसीपी को लेकर उनकी सरकार सकारात्मक रुख रखेगी। लेकिन मोदी की गारंटी कितनी कारगर साबित होती है, ये इसी से पता चलता है कि पीएम मोदी की ईआरसीपी को लेकर दी गई गारंटी को आज 5 साल हो गए, लेकिन वो धरातल पर लागू नहीं हो सकी।

पीएम मोदी महिला आरक्षण की बात करते रहे, वसुंधरा राजे की करते रहे अनदेखी

प्रधानमंत्री ने अपनी इसी सभा में महिला आरक्षण के जरिए प्रदेश की महिला मतदाताओं को भी साधने की कोशिश की और इसे अपनी केंद्र सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि बताया। लेकिन जानकारों का कहना है कि इसी सभा में राजस्थान में भाजपा की एक मात्र महिला मुख्यमंत्री और प्रदेश की भाजपा की कद्दावर नेता वसुंधरा राजे भी मौजूद थीं। इसके बावजूद पीएम मोदी की जनसभा में न वसुंधरा राजे का संबोधन हुआ, न ही पीएम मोदी ने अपने भाषण में वसुंधरा सरकार के 2 बार के कार्यकालों में चलाई गई किसी भी योजना का जिक्र किया। इससे भाजपा में महिलाओं की अनदेखी करने का मैसेज प्रदेशवासियों में गया है।

गहलोत सरकार की योजनाओं के आगे नहीं गल पाएगी भाजपा की दाल

वहीं पीएम मोदी ने यहां एक बड़ा बयान ये दिया कि अगर उनकी पार्टी की सरकार प्रदेश में आई, तो गहलोत सरकार की ओर से चलाई जा रही जनकल्याणकारी योजनाओं को बंद नहीं किया जाएगा। भाजपा समर्थक जहां इसे सबसे बड़े मास्टर स्ट्रोक के रूप में देख रहे हैं, वहीं जानकारों का मानना है कि इससे भाजपा की खीज सामने आ गई है। क्योंकि भाजपा ये बात समझ चुकी है कि गहलोत सरकार की योजनाओं के आगे उनकी दाल गलने वाली नहीं है। ऐसे में अगर भाजपा की तरफ से जनता में अगर ये मैसेज गया भाजपा आई तो इन योजनाओं को बंद कर देगी, तो किसी भी परिस्थिति में प्रदेश में भाजपा की वापसी संभव नहीं हो सकेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here