Home National प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर...

प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर दिया जवाब, विपक्ष पर किए वार

41
0
पीएम मोदी ने राज्यसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर दिया जवाब, विपक्ष पर किए वार

The Angle

नई दिल्ली।

पीएम मोदी ने राज्यसभा में आज धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का परजीवी युग शुरू हो गया है। जहां खुद लड़े वहां हारे, दूसरे के कंधे पर चढ़कर यहां तक पहुंचे हैं। कांग्रेस के पास जनता का विश्वास जीतने के लिए कुछ नहीं है। कांग्रेस सिर्फ लोगों को गुमराह करती है।

प्रधानमंत्री बोले- जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद से लड़ाई अंतिम चरण में

पीएम मोदी ने दिल्ली शराब घोटाल का जिक्र करते हुए कहा कि AAP की शिकायत कांग्रेस ने की थी। शराब घोटाले को कांग्रेस कोर्ट में लेकर गई। घोटाला करे AAP, कांग्रेस कोर्ट ले गई। केंद्र की जांच एजेंसियों पर आरोप लगा रही है। ये लोग दोहरे रवैये वाले लोग हैं। मैंने एजेंसियों को खुली छूट दी है। कोई भी भ्रष्टाचारी कानून से बचकर नहीं निकलेगा। नौजवानों से आश्वस्त करना चाहता हूं कि आपको धोखा देने वालों को छोड़ेंगे नहीं। NEET परीक्षा पर भी विपक्ष ने राजनीति की। जम्मू-कश्मीर में रिकॉर्ड वोटिंग हुई। जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद से लड़ाई अंतिम चरण में है। मणिपुर की स्थिति सामान्य करने के लिए सरकार प्रयासरत है। मणिपुर में 11 हजार FIR दर्ज की गई है, जिसमें 500 से ज्यादा लोग गिरफ्तार हुए हैं। मणिपुर में कुछ तत्व आग में घी डालने का काम कर रहे हैं। मणिपुर के लोग ही उनको खारिज कर देंगे।

सत्य से मुकाबला करने के लिए विपक्ष के पास हौसला नहीं- पीएम मोदी

उन्होंने आगे कहा कि रेहड़ी पटरी वालों के लिए भी बैंक के दरवाजे खोले गए हैं। सुधा मूर्ति ने महिलाओं के स्वास्थ्य पर बात की। हमारी सरकार ने 3 करोड़ महिलाओं को लखपति दीदी बनाने का लक्ष्य रखा है। वहीं विपक्ष के वॉकआउट पर प्रधानमंत्री कहा कि सत्य से मुकाबला करने के लिए इनके पास हौसला नहीं है। उनके द्वारा उठाए सवालों की सुनने की हिम्मत नहीं है। उन्होंने कहा कि देश के किसानों को हमारी सरकार ने 12 लाख करोड़ रुपए की सब्सिडी दी। कुछ समय पहले मैंने बंगाल से आई तस्वीरें देखी थीं। महिला को सरेआम पीटा जा रहा था, लेकिन कोई मदद के लिए नहीं आया। इससे बड़ी शर्मिंदगी की बात क्या हो सकती है। बहुत बड़ी प्रगतिशील नारी नेता मानने वालों के मुंह पर भी ताले हैं।

जनता ने परफॉर्मेंस को दी प्राथमिकता- पीएम मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि क्या ये लोग 1977 का चुनाव भूल गए। 1977 में लोगों ने लोकतंत्र के लिए वोट किया और लोगों ने सरकार को उखाड़ फेंक दिया। संविधान की आत्मा को क्षीण करने का काम इन्होंने किया। आपके मुंह से संविधान की रक्षा शब्द शोभा नहीं देता। राष्ट्रपति का अभिभाषण देश के लिए प्रेरणा है। गत दो दिन से देख रहा हूं दबे मन से वो हमारी विजय स्वीकार कर रहे हैं। इस चुनाव में जनता ने प्रोपेगेंडा को परास्त किया है। देश की जनता ने परफॉर्मेंस को प्राथमिकता दी है।

पिछले 10 वर्षों में अर्थव्यवस्था 10वें नंबर से 5वें नंबर तक पहुंची है। अब 5वें नंबर तीसरे पर पहुंचाने के लिए जनादेश मिला है। यहां कुछ ऐसे विद्वान हैं जो कहते हैं कि अपने आप तीसरे नंबर पहुंच जाएगा। ये वही लोग हैं जिन्होंने ऑटो पायलट मोड पर सरकार चलाई, करने-धरने में विश्वास नहीं रखते हैं, लेकिन हम परिश्रम में कोई कमी नहीं रखते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here