Home National कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के राजस्थान दौरे से पहले एक और कमेटी...

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के राजस्थान दौरे से पहले एक और कमेटी गठित, प्रदेश के नेताओं से बनाई दूरी

84
0
कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के राजस्थान दौरे से पहले एक और कमेटी गठित, प्रदेश के नेताओं से बनाई दूरी (फाइल इमेज)

The Angle

नई दिल्ली।

कांग्रेस ने इस साल होने वाले विभिन्न राज्यों के विधानसभा चुनाव और अगले साल के लगभग मध्य में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए अपनी तैयारियां तेज कर दी हैं। इस बीच कांग्रेस ने अपनी केंद्रीय चुनाव समिति का भी ऐलान कर दिया है। समिति में कुल 16 लोगों को जगह दी गई है। खास बात यह है कि पिछली कई कमेटियों में राजस्थान से कई नेताओं को शामिल किया गया है. लेकिन लंबे समय बाद ये मौका आया है जब कांग्रेस की इस बेहद अहम कमेटी में राजस्थान से एक भी नेता का नाम शामिल नहीं किया गया है। माना जा रहा है कि पार्टी की कोशिश है कि राजस्थान के नेता राजस्थान के विधानसभा चुनाव को जीतने पर ही फोकस करें, इसके लिए उन्हें इस कमेटी से अलग रखा गया है।

कांग्रेस की सूची में प्रियंका गांधी को भी नहीं दी गई जगह

कमेटी में शामिल नेताओं की बात करें तो कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के अलावा इस समिति में पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व केंद्रीय मंत्री अम्बिका सोनी, लोकसभा में विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी, पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मधुसूदन मिस्त्री, एन. उत्तम कुमार रेड्डी, छत्तीसगढ़ के डिप्टी सीएम टी एस सिंह देव, के जे जियोग्रे, प्रीतम सिंह, मोहम्मद जावेद, अमी याज्ञनिक, पीएल पूनिया, ओंकार मरकाम और कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल शामिल हैं। राजस्थान से किसी भी नेता को सूची में जगह नहीं मिली है। इसके अलावा कांग्रेस महासचिव और यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी को भी सूची से दूर रखा गया है।

2024 के लोकसभा चुनाव से पहले 3 राज्यों में जीत दर्ज करने का लक्ष्य

माना जा रहा है कांग्रेस भले ही 2024 का चुनाव जीतने के लिए महागठबंधन में शामिल हो, लेकिन इसके साथ ही वो राष्ट्रीय स्तर पर खुद को फिर से मजबूत करना चाहती है। हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक में फिर से सरकार बनाकर कांग्रेस ने ये साबित किया है कि उसमें पार्टी को रिवाइव करने की पर्याप्त क्षमता है। वहीं पार्टी अगर मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में विधानसभा चुनाव जीतने में कामयाब रहती है, तो ये भरोसा और मजबूत होगा। साथ ही 2024 का लोकसभा चुनाव जीतने की पार्टी की संभावनाएं भी बढ़ जाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here