Home Politics बीजेपी की ये रणनीति वसुंधरा राजे पर पड़ी भारी,आखिर क्या चाल चली...

बीजेपी की ये रणनीति वसुंधरा राजे पर पड़ी भारी,आखिर क्या चाल चली पार्टी ने ?

53
0
वसुधंरा राजे (फाइल फोटो)

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री इन दिनों सुर्खियों से गायब है .सबके मन में यह बात चल रही है कि आखिर राजे के मन में चल क्या रहा है .लेकिन सच्चाई तो ये है कि अब बीजेपी वसुंधरा को पूरी तरह से किनारे करने का मन बना चुकी है .क्योंकि राजे लगभग 10 दिनों से दिल्ली में धरना दिए बैठी है .और तमाम जो बीजेपी की परिवर्तन यात्राएं है उनसे भी वो नदारद ही नजर आ रही है .जिससे अब भाजपा के खेमों में अलग ही हलचल देखने को मिल रही है .वसुंधरा खेमें में तो ये मायूसी भी छा गई है कि अब राजे को कमान नहीं सौंपी जाएगी.

वसुंधरा को नजरअंदाज कर रही पार्टी

राजे लगातार बीजेपी के तमाम कार्यक्रमों से नदारद दिख रही है .लेकिन अंदरखाने से खबर ये भी है कि वसुंधरा गुट के नेताओं के खिलाफ पार्टी के एक्शन से भी राजे कही ना कही नाराज चल रही है .जिसके चलते राजे ने सभी कार्यक्रमों से किनारा कर दिया है .लेकिन बड़ी बात ये है कि राजे का प्रदेश में बड़ा कद माना जाता है .और उनके समर्थक यही कह रहे है कि अगर उनकों सीएम फेस के लिए आगे नहीं किया तो बीजेपी की सरकार प्रदेश में आना मुश्किल है .लेकिन पार्टी ने शायद पूरा मन बना लिया है कि अब वसुंधरा राजे को पूरी तरह से पार्टी से अलग थलग किया जाए.

वसुंधरा के गढ़ में भी नहीं गई परिवर्तन यात्रा

बीजेपी ने पूरे प्रदेश की 200 विधानसभा सीटों पर परिवर्तन यात्रा निकालने का फैसला किया था.लेकिन बड़ी बात ये है कि राजे का गढ़ माने जाने वाला झालावाड़ इस बार इस परिवर्तन यात्रा से अछूता रह गया.जबकि पार्टी ये दावा कर रही थी कि यात्रा सभी 200 विधानसभा सीटों को कवर करेगी.लेकिन ऐसा क्या हुआ कि राजे का गढ़ माने जाने वाले झालावाड़ में इस बार यात्रा नहीं गई.लेकिन ये बात अब पूरी तरह से जगजाहिर हो चुकी है कि पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं है .राजे जैसी बड़े कद वाली नेता को पार्टी ने निपटाने के लिए पूरी तैयारी और रणनीति तय कर ली है .

मोदी की सभा में भी शामिल होने पर सस्पेंस

25 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जयपुर में सभा प्रस्तावित है .जहां एक और चर्चाएं ये चल रही है कि इस सभा के बाद ही सब कुछ साफ हो जाएगा.वही दूसरी ओर ये कयास लगाए जा रहे है कि राजे इस सभा में शामिल होगी भी या नहीं.लेकिन सियासी गलियारों में चर्चाओं के बाजार गर्म है कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि मैडम परिवर्तन यात्रा से पूरी तरह से नदारद हो गई और उनके ही विरोधी नेता यात्रा की कमान संभाले नजर आए .लेकिन अब देखने वाली बात ये है कि क्या बीजेपी राजे के बिना राजस्थान फतह कर पाती है या नहीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here